चेतन भगत ने अर्थव्यवस्था की दुर्दशा के बताए 6 कारण, बोले- हम हमेशा पाकिस्तान को...

चेतन भगत (Chetan Bhagat) ने लिखा कि हमने अपनी अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया है. इसके साथ ही ट्वीट में चेतन भगत ने इसके छह कारण भी दिये हैं. उन्होंने बताया कि हम हमेशा पाकिस्तान को नीचा दिखाने की परवाह करते हैं.

चेतन भगत ने अर्थव्यवस्था की दुर्दशा के बताए 6 कारण, बोले- हम हमेशा पाकिस्तान को...

चेतन भगत (Chetan Bhagat) ने अर्थव्यवस्था को लेकर किया ट्वीट

खास बातें

  • चेतन भगत ने बताया अर्थव्यवस्था के बर्बाद होने का कारण
  • चेतन भगत ने कहा कि हम पाकिस्तान की ज्यादा परवाह करते हैं...
  • चेतन भगत का ट्वीट हुआ वायरल
नई दिल्ली:

मशहूर लेखक चेतन भगत (Chetan Bhagat) अपने विचारों के लिए खूब जाने जाते हैं. वह अकसर समसामयिक मुद्दों पर बेबाकी से राय पेश करते हैं. हाल ही में चेतन भगत ने भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर ट्वीट किया है, जो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है. अपने ट्वीट में चेतन भगत ने लिखा कि हमने अपनी अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया है. इसके साथ ही ट्वीट में चेतन भगत ने इसके छह कारण भी दिए हैं. उन्होंने बताया कि हम हमेशा पाकिस्तान को नीचे रखने की परवाह करते हैं, हम मुस्लिमों के होने की ज्यादा परवाह करते हैं. हम सरकार को जवाबदेही ठहराने की जगह उनकी पूजा करते हैं.

चेतन भगत (Chetan Bhagat) के इस ट्वीट को लेकर सोशल मीडिया यूजर भी खूब कमेंट कर रहे हैं. उन्होंने अपने ट्वीट में कहा, "हमने अपनी अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया है. क्योंकि:
1. हम पाकिस्तान को नीचा दिखाने की ज्यादा परवाह करते हैं.
2. हम मुसलमानों पर एक होने की परवाह करते हैं.
3. हम सरकार को जवाबदेही ठहराने की जगह उनकी पूजा करते हैं.
4. आउटडेटेड इकोनॉमिक्स.
5. हमें लगता है कि सभी दुख भगवान ने दिये हैं.
6. हम इस रिएलिटी चेक ट्वीट को भी ट्रोल करते हैं."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बता दें कि चेतन भगत (Chetan Bhagat) यही नहीं रुके. इससे पहले भी उन्होंने अर्थव्यवस्था पर कई ट्वीट किये, जो सबका खूब ध्यान खींच रहे हैं. अपने ट्वीट में चेतन भगत ने लिखा, "अगर अर्थव्यवस्था सही आकार में नही है तो मैं यही कहूंगा कि यह सही आकार में नहीं है. सुधार इसे बेहतर बना सकता है. मुझे उम्मीद है कि हम भी ऐसा करेंगे. हालांकि, सिर्फ इसलिए कि मैंने कुछ ऐसा कहा है जिसे आप सुनना चाहते हैं तो इसका मतलब ये नहीं है कि मैं आप लोगों की तरफ हूं. खुद को संभालो. मैं स्वतंत्र रूप से सोचता हूं. मेरे लिए क्लब नहीं है."