दिव्येंदु शर्मा Mirzapur 2 की रिलीज से पहले अपने पसंदीदा शहर बनारस लौटे

दिव्येंदु शर्मा सबसे लोकप्रिय अभिनेताओं में से एक हैं, जिन्होंने हमेशा प्रत्येक परियोजना के साथ अपने प्रदर्शन का स्तर बढ़ाया है.

दिव्येंदु शर्मा Mirzapur 2 की रिलीज से पहले अपने पसंदीदा शहर बनारस लौटे

दिव्येंदु शर्मा (Divyendu Sharma) मिर्जापुर 2 की के रिलीज से पहले पसंदीदा शहर बनारस लौटे

खास बातें

  • दिव्येंदु शर्मा ने मिर्जापुर 2 की शूटिंग की पूरी
  • दिव्येंदु शर्मा फिल्म मिर्जापुर 2 की शटिंग से पहले पहुंचे बनारस
  • मिर्जापुर 2 को लेकर दिव्येंदु शर्मा ने यादें की ताजा
नई दिल्ली:

दिव्येंदु शर्मा सबसे लोकप्रिय अभिनेताओं में से एक हैं, जिन्होंने हमेशा प्रत्येक परियोजना के साथ अपने प्रदर्शन का स्तर बढ़ाया है. प्रतिबंधों के बीच में और डबिंग और अन्य मीटिंग्स में व्यस्त होने के साथ अभिनेता ने पूरे उत्साह के साथ काम करने के लिए आगे छलांग लगाई है और अब वह अपने सबसे पसंदीदा शहर बनारस से अपने अगले प्रोजेक्ट पर काम करना शुरू कर देंगे.
दिव्येंदु अपने आगामी प्रोजेक्ट की शूटिंग के लिए बनारस रवाना हो गए हैं, जो जल्द ही एक लोकप्रिय ओटीटी प्लेटफॉर्म पर स्ट्रीम होगा. उन्होंने शेयर किया, “मैं पिछले कुछ महीनों से घर पर रहने के बाद सेट पर वापस जाने के लिए रोमांचित हूं.


मुझे लगता है कि मैं एक लंबी छुट्टी के बाद फिर से शुरू हो गया हूं और मैं एक रोमांचक और प्रोडक्टिव शूटिंग शेड्यूल की उम्मीद कर रहा हूं. तमाम कठिनाइयों के बावजूद जीवन को आगे बढ़ाना है. मेरे पसंदीदा शहरों में से एक बनारस में सेट पर वापस आना एक अलग तरह की अनुभूति है. मैंने मिर्जापुर सीज़न 1 के लिए पहले यहां शूटिंग की थी और मैं फिर से वापस आ गया हूं. मेरी इस जगह की बहुत सारी दिलचस्प यादें हैं, खासकर चटपटी कचौड़ी और एप्पल पाई. मैं अच्छे पुराने दिनों को फिर से तलाशने, शूटिंग करने के लिए और इंतजार नहीं कर सकता.” उन्होंने यह भी कहा कि इन समय के दौरान शूटिंग पूरी तरह से एक अलग अनुभव है और सभी की सुरक्षा के लिए सभी आवश्यक सावधानियों का पालन किया जा रहा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


हालांकि अभिनेताओं के लिए नए तरह की शूटिंग के अनुकूल होना चुनौतीपूर्ण है, दिव्येंदु को यकीन है कि यह एक अनूठा और मजेदार अनुभव होने वाला है. वह मिर्जापुर के दूसरे सीजन के साथ एक बार फिर अपने प्रशंसकों को अपनी सीटों से चिपकाए रखने के लिए तैयार हैं.