NDTV Khabar

जुबान को लेकर मोह नहीं रखना चाहिए: डॉ. सागर 

बॉलीवुड फिल्मों 'अनारकली ऑफ आरा', 'लाली की शादी में लड्डू दीवाना', 'रिबन', 'लव यू सोनियो' और 'मैं और चार्ल्स' जैसी फिल्मों के गीत लिख चुके डॉ. सागर अपनी नई शायरी के साथ तैयार हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जुबान को लेकर मोह नहीं रखना चाहिए: डॉ. सागर 

डा. सागर

नई दिल्ली:

बॉलीवुड फिल्मों 'अनारकली ऑफ आरा', 'लाली की शादी में लड्डू दीवाना', 'रिबन', 'लव यू सोनियो' और 'मैं और चार्ल्स' जैसी फिल्मों के गीत लिख चुके डॉ. सागर अपनी नई शायरी के साथ तैयार हैं. डॉ. सागर की आने वाली फिल्म 'वरदानिया' है. 'वरदानिया' के डॉ. सागर ने सारे गीत लिखे हैं और अभी फिल्म के पोस्टर रिलीज हुआ है. विषय आधारित फिल्म होने की वजह से इसके गीत भी काफी मायने रखते हैं. डॉ. सागर ने बताया है कि उन्होंने फिल्म का एक बहुत ही मजेदार सॉन्ग 'पैडल मार के' भी लिखा है जो वाकई काफी दिलचस्प सॉन्ग है.

कैंसर का इलाज करवा रहे इरफान खान के फैन्स के लिए खुशखबरी, हुआ ये खुलासा

डॉ. सॉगर से बॉलीवुड सॉन्ग में पंजाबी के ज्यादा इस्तेमाल के बारे में पूछ जाने पर वे कहते हैं, "पंजाबी गानों में शुरू से रही है, जहां के गीतकार रहे हैं वहां के शब्द लिरिक्स में आते ही हैं. वैसे भी सॉन्ग के शब्द भी तो बोलचाल की भाषा से ही आते हैं, फिल्मी गीतो में अल्फाज भी असल जिंदगी से इस्तेमाल किए जाते हैं." सॉन्ग में पंजाबी और अंग्रेजी शब्दों के इस्तेमाल पर वे कहते हैं, "कई विद्वत जनों ने कहा है कि भाषा को रोको नहीं, भाषा बहते हुए जल की तरह होती है. उसको आप रोक देंगे, जुबान भी सड़ जाएगी. इसलिए भाषा को हमेशा बदलते रहना चाहिए."


Video: जब आयुष्मान खुराना के मौत की उड़ गई थी अफवाह, कुछ ऐसी थी स्टोरी

यह पूछे जाने पर कि आज बॉलीवुड के गानों में मेलॉडी खत्म होती जा रही है और उनकी लाइफ पहली जितनी नहीं रही है तो वे कहते हैं, "गानों में मेलॉडी है, फिल्मों की संख्या बढ़ रही है तो गानों की संख्या भी बढ़ रही है. पहले कम फिल्में आती थीं, और फिल्मों के गाने साल दो साल तक बजते थे. एक हफ्ते में 6-7 फिल्में रिलीज हो रही हैं. 30-40 गाने रिलीज हो रहे हैं. ऐसे में हर चीज बहुत फास्ट हो गई है."

Video: मलाइका अरोड़ा को छेड़ते दिखे करण जौहर, पूछा- क्या अकेले मनाया बर्थडे? मिला ये चटपटा जवाब...

टिप्पणियां

डॉ. सागर का जन्म उत्तर प्रदेश के बलिया में हुआ है और अपनी पी.एचडी जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी से कर रखी है. डॉ. सागर को शुरू से ही शायरी का शौक रहा है, और उन्होंने अपने इस शौक को फिल्मों में आजमाया और उन्हें सफलता भी मिली. 'लव यू सोनियो' और 'मैं और चार्ल्स' फिल्म के उनके गाने काफी सुने गए. दिलचस्प यह है कि डॉ. सागर भोजपुरी फिल्मों में भी गीत लिख चुके हैं और आजकल बॉलीवुड में वे अपनी कलम से धूम मचाए हुए हैं. 

...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement