NDTV Khabar

Gulzar B'day Spl: 'शाम से आंख में नमी सी है, आज फिर आप की कमी सी है', पढ़ें गुलजार की बेहतरीन शायरी

गुलजार (Gulzar) यानी सम्पूर्ण सिंह कालरा (Sampooran Singh Kalra) का आज जन्मदिन है. पढ़ें गुलजार की बेहतरीन शायरी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Gulzar B'day Spl: 'शाम से आंख में नमी सी है, आज फिर आप की कमी सी है', पढ़ें गुलजार की बेहतरीन शायरी

गुलजार (Gulzar) के जन्मदिन पर पढ़ें कुछ खास शेर

खास बातें

  1. गुलजार साहब आज मना रहे हैं 85वां जन्मदिन
  2. करियर के दौरान जीते कई खिताब
  3. गुलजार साहब की ऐसी शायरियां, जो कर देंगी दिल को खुश
नई दिल्ली:

Gulzar Birthday Special: बॉलीवुड के सबसे मशहूर निर्देशक और गीतकार गुलजार साहब (Gulzar) यानी सम्पूर्ण सिंह कालरा (Sampooran Singh Kalra) का आज जन्मदिन है. 18 अगस्त, 1934 में पाकिस्तान के दीना में जन्मे गुलजार साहब (Gulzar Sahab) ने अपने करियर की शुरुआत एस.डी बर्मन के साथ एक लीरिक्स राइटर के तौर पर की थी. अपने करियर के दौरान गुलजार(Gulzar) को कई बार अंतरराष्ट्रीय व राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है. इनमें ऑस्कर, ग्रैमी, पद्म भूषण और कई फिल्मफेयर अवॉर्ड्स भी शामिल हैं. गुलजार (Gulzar) साहब को न केवल उनके लिखे गानों के लिए बल्कि उनकी शायरी के लिए भी खूब जाना जाता है. उनकी कई शायरी ऐसी हैं, जिन्हें पढ़कर या सुनकर किसी का भी दिल खुश हो जाएगा. तो क्यों ना आज गुलजार साहब के 85 वें जन्मदिन के मौके पर उनकी शानदार शायरी से अपना दिन बनाया जाए.

बॉलीवुड प्रोड्यूसर ने किया खुलासा, कहा - ये लोग बन सकते हैं जम्मू और कश्मीर के लिए सबसे बड़ा खतरा


शाम से आंख में नमी सी है 
आज फिर आप की कमी सी है 

ज़िंदगी यूं हुई बसर तन्हा 
क़ाफ़िला साथ और सफ़र तन्हा 

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ़ 
किसी की आंख में हम को भी इंतिज़ार दिखे 

नेहा कक्कड़ ने 'सॉरी सॉन्ग' पर दिए जबरदस्त एक्सप्रेशन, वायरल हुआ क्यूट Video

हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते 
वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते 

जिस की आंखों में कटी थीं सदियां 
उस ने सदियों की जुदाई दी है 

तुम्हारे ख़्वाब से हर शब लिपट के सोते हैं 
सज़ाएं भेज दो हम ने ख़ताएँ भेजी हैं 

स्विमिंग पूल के पास मस्ती में झूमती नजर आईं नोरा फतेही, वायरल हुआ धांसू Video

चंद उम्मीदें निचोड़ी थीं तो आहें टपकीं 
दिल को पिघलाएँ तो हो सकता है सांसें निकलें 

भरे हैं रात के रेज़े कुछ ऐसे आंखों में 
उजाला हो तो हम आँखें झपकते रहते हैं 

अपने माज़ी की जुस्तुजू में बहार 
पीले पत्ते तलाश करती है 

उर्वशी ढोलकिया के बेटों का खुलासा, मम्मी के बॉयफ्रेंड से ऐसे हुई मुलाकात और इस तरह परेशान करते थे लोग?- देखें Viral Video

रुके रुके से क़दम रुक के बार बार चले 
क़रार दे के तिरे दर से बे-क़रार चले

टिप्पणियां

..और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement