NDTV Khabar

बर्थडे स्पेशल: राजेश खन्ना को इस वजह से बुलाते थे 'काका', इंटरव्यू में इन 5 सवालों का दिया था धांसू जवाब

भारत के पहले सुपर स्टार कहे जाने वाले राजेश खन्ना की आज 75वीं जयंती मनाई जा रही है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बर्थडे स्पेशल: राजेश खन्ना को इस वजह से बुलाते थे 'काका', इंटरव्यू में इन 5 सवालों का दिया था धांसू जवाब

खास बातें

  1. राजेश खन्ना का आज 75वीं जयंती मनाई जा रही है
  2. उनका देहांत 18 जुलाई 2012 को मुंबई में हुआ था
  3. राजेश खन्ना के इंटरव्यू के 5 इंटरेस्टिंग प्वाइंट
नई दिल्ली: भारत के पहले सुपर स्टार कहे जाने वाले राजेश खन्ना की आज 75वीं जयंती मनाई जा रही है. फिलहाल वह अब इस दुनिया में नहीं है, लेकिन एक कलाकार के रूप में राजेश खन्ना ने जो अपनी छाप छोड़ी, लोग उसे आज भी याद करते हैं. उनका देहांत 18 जुलाई 2012 को मुंबई में हुआ था. एक कलाकार के रूप में राजेश खन्ना ने कई इंटरव्यू दिए, जिसमें से कई दिलचस्प बात सामने आईं. 1990 में राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन ने एक साथ मैगज़ीन को इंटरव्यू देते हुए कई बातों का खुलासा किया था.  

इस इंटरव्यू में राजेश खन्ना ने कई ऐसे दिलचस्प बातों का जिक्र किया था. राजेश खन्ना ने बताया था जब उन्हें सफलता मिली थी, तह उन्होंने कैसा महसूस किया था. जब उनके फिल्म फ्लॉप होने लगीं, तब उनकी प्रतिक्रिया कैसी थी? कैसे दीवार फिल्म उन्हें नहीं अमिताभ बच्चन को मिली. कैसे राजेश खन्ना नहीं चाह रहे थे कि डिंपल कपाड़िया फिल्मों में काम करें? वह राजनीति में कैसे आए? उनको “काका” के नाम से क्यों बुलाया जाता है?

राजेश खन्ना के इंटरव्यू के 5 इंटरेस्टिंग प्वाइंट

सवाल : पूरी दुनिया आपको काका के नाम से जानती है?  इसके पीछे क्या वजह है? (फिल्मीबीट)
राजेश खन्ना: पंजाबी में "काका" का मतलब होता है छोटा बच्चा. जब मैं फिल्म में आया तब बहुत छोटा था इसीलिए मुझे 'काका' के नाम से बुलाया गया. फिर सम्मान के लिए लोगों ने 'जी' लगा दिया.  
 
सवाल : आपके लिए सफलता का मतलब क्या है ? (मूवी मैगज़ीन)
राजेश खन्ना: फिल्म 'आनंद' में मिली सफलता के बाद मुझे ऐसा लगा जैसे भगवान के बगल में हूं. पहली बार मैंने महसूस किया कि सफलता क्या होती है. मुझे याद है कि बंगलुरु में फिल्म का प्रीमियर था. करीब दस मील तक सड़क पर लोगों के सिर के सिवा और कुछ दिखाई नहीं दे रहा था. यह सफलता देखते हुए मैं एक बच्चा की तरह रो रहा था. फिर बाद में जब मेरी फिल्म फ्लॉप होने लगीं तो मुझे ऐसा लगा जैसे मैं एक बोतल में जाकर टकराया हूं. एक के बाद एक मेरी सात फिल्म फ्लॉप हुईं.

एक बार रात को तीन बजे के करीब मैं अपना घर के टेरस में अकेला खड़ा था. अपने आप को संभल नहीं पाया. फिर मैं चिल्लाने लगा, "परवरदिगार,  हम ग़रीबों का इतना इम्तिहान न ले कि हम तेरे वजूद को इनकार कर दें." फिर डिंपल और घर के अन्य सदस्य भाग के आए और उन्हें लगा कि मैं पागल हो गया हूं.  निस्संदेह सफलता ने मुझे इतना प्रभावित किया था कि अससफलता को सहन करना मेरे लिए मुश्किल था. अगले दिन फिल्म निर्देशक बालाजी ने मुझे 'अमरदीप' फिल्म का ऑफर दिया जो मेरा करियर का एक दूसरा मोड़ साबित हुई.

सवाल : क्या आपके साथ ऐसा कभी हुआ है कि आपकी साइन की हुई फिल्म दूसरे एक्टर को दे दी गई?
राजेश खन्ना: जी हां, 'दीवार' फिल्म के मामले में मेरे साथ ऐसा हुआ. सलीम-जावेद और मेरे बीच मतभेद थे. उन्होंने यश चोपड़ा को स्क्रिप्ट देने के लिए मना कर दिया था. यश 'दीवार' के लिए मुझे साइन करना चाहते थे. उनके पास कोई विकल्प नहीं था. शायद बाद में उन्हें लगा होगा कि अमिताभ बच्चन इस फिल्म के लिए ज्यादा सही हैं. फिर मैंने 'दीवार' देखी और ईमानदारी से मैंने बोला, "क्या बात है". भगवान के नाम पर अगर सच कहूं तो अमिताभ बच्चन के अंदर हमेशा टैलेंट था. चाहे 'नमक हलाल' की बात किया जाए या 'आनंद'. मेरा मतलब हांडी में से अगर चावल का एक दाना निकालो तो पता चल जाता है कि क्या है.  
 
सवाल : आप डिंपल को शादी के बाद फिल्मों में काम क्यों नहीं करने देना चाहते थे?
राजेश खन्ना : मैंने जब डिंपल से शादी की तो मैं अपने बच्चों के लिए एक मां चाहता था. मैं नहीं चाहता था कि मेरे बच्चों का लालन-पालन नौकरों के द्वारा हो. डिंपल के टैलेंट के बारे में मुझे पता नहीं था क्योंकि तब 'बॉबी' रिलीज़ नहीं हुई थी. अगर मुझे पता होता कि वह इतनी टैलेंटेड है तो मैं उसे नहीं रोकता. जब मैंने 'बॉबी' देखी तब तक हमारा पहली बेटी जन्म ले चुकी थी. लेकिन बाद मैं टीना मुनीम के साथ सात साल तक रहा. मैंने टीना के लिए फिल्म बनाई. हम दोनों ने कई फिल्मों में साथ काम किया. टीना की फिल्मों के प्रति ज्यादा रूचि नहीं था, लेकिन मैंने कहा था, "काम करो और अपने सिस्टम से बाहर आओ". मैं दोबारा वह गलती नहीं करना चाहता था (जो डिंपल के साथ की थी).

टिप्पणियां
सवाल : आप राजनीति में क्यों आए? (मूवीटॉकीज.कॉम)
राजेश खन्ना: सोनिया गांधी की एक कॉल मुझे राजनीति में ले आई. मैं हमेशा से कांग्रेसी था फिर मुझे कांग्रेस पार्टी ज्वाइन करने के लिए आमंत्रण आया और यह आमंत्रण मैडम सोनिया गांधी जी की ओर से आया था. मेरे पास कोई विकल्प नहीं था. फिर मैंने हां बोल दिया और पार्टी ने जो चाहा मैंने वह किया. मुझे एक ऐसी पार्टी में काम करने के लिए मौका दिया गया, जिसकी नीतियों में मैं हमेशा विश्वास रखता था.

VIDEO: राजेश खन्ना का आखिरी ऑडियो संदेश

 
...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement