Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

Happy Hug Day: खूब मिल कर गले से रो लेना, इस से दिल की सफाई होती है...Hug Day पर रोमांटिक शायरी

Happy Hug Day 2020: हग डे (Hug Day) 12 फरवरी को आता है और इसके बाद किस डे (Kiss Day) आता है. 14 फरवरी को वैलेंटाइन्स डे (Valentine's Day 14 February) मनाया जाता है. Hug Day पर रोमांटिक शायरी.

Happy Hug Day: खूब मिल कर गले से रो लेना, इस से दिल की सफाई होती है...Hug Day पर रोमांटिक शायरी

Hug Day Shayari: हग डे (Hug Day) पर रोमांटिक शायरी

खास बातें

  • 12 फरवरी को होता है हग डे
  • हग डे पर पढ़ें रोमांटिक शायरी
  • 14 फरवरी को होता है वैलेंटाइंस डे
नई दिल्ली:

Happy Hug Day: हग डे (Hug Day) 12 फरवरी को आता है और इसके बाद किस डे (Kiss Day) आता है. 14 फरवरी को वैलेंटाइन्स डे (Valentine's Day 14 February) मनाया जाता है. वैलेंटाइन्स डे स पहले का हफ्ता प्रेमियों को समर्पित होता है और इसमें कई दिन आते हैं. लेकिन अपने इश्क को गले लगाना बहुत मायने रखता है और उर्दू शायरों ने इसे अपने ढंग से लिखा भी है. Hug को उर्दू में आगोश भी कहा जाता है, और गले लगाने पर उर्दू शायरों ढेरों शेर कहे हैं. Hug Day 2020 के मौके पर हम आपके लिए रोमांटिक शायरी (Romantic Shayari) लेकर आ रहे हैं, जिसमें आप व्हाट्सऐप (WhatsApp Status), फेसबुक (Facebook) और एसएमएस (SMS) के जरिये अपने लव को भेज सकते हैं. Hug Day पर उर्दू शायरों (Urdu Poets) के कुछ खास शेर चुने गए हैं.

Happy Hug Day 2020: हग डे (Hug Day Shayari) पर इश्क की महक में डूबे शेरः 

देखना कैसे पिघलते जाओगे
जब मिरी आग़ोश में तुम आओगे
आज़िम कोहली

रात दिन तू है मिरी आग़ोश में
मैं तिरा साहिल मिरा दरिया है तू
क़ाएम चाँदपुरी

आज आग़ोश में था और कोई
देर तक हम तुझे न भूल सके
फ़िराक़ गोरखपुरी

आग़ोश की हसरत को बस दिल ही में मारुँगा
अब हाथ तिरी ख़ातिर फैलाऊँ तो कुछ कहना
मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी

जान ये सरकशी-ए-जिस्म तिरे बस की नहीं
मेरी आग़ोश में आ ला ये मुसीबत मुझे दे
फ़रहत एहसास

वो तो ख़ुश्बू है हर इक सम्त बिखरना है उसे
दिल को क्यूँ ज़िद है कि आग़ोश में भरना है उसे
सदा अम्बालवी

क़रीब-ए-मर्ग हूँ लिल्लाह आईना रख दो
गले से मेरे लिपट जाओ फिर निखर लेना
आग़ा हज्जू शरफ़

अजनबी मुझ से आ गले मिल ले
आज इक दोस्त याद आए मुझे
आसिफ़ रज़ा

मिल के होती थी कभी ईद भी दीवाली भी
अब ये हालत है कि डर डर के गले मिलते हैं
अज्ञात

ख़ूब मिल कर गले से रो लेना
इस से दिल की सफ़ाई होती है
हक़ीर

...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...