Indian Air Force Day: भारतीय वायुसेना की 88वीं सालगिरह पर एंडटीवी के कलाकारों ने खास अंदाज में दी सलामी

भारतीय वायु सेना दिवस केअवसर पर एण्डटीवी के कलाकारों भाभीजीघर पर हैं के विभूति नारायण मिश्रा (आसिफ शेख) ने आइएएफ के जोश एवं प्रतिबद्धता को खास अंदाज में सलामी दी है. 

Indian Air Force Day: भारतीय वायुसेना की 88वीं सालगिरह पर एंडटीवी के कलाकारों ने खास अंदाज में दी सलामी

एण्डटीवी के कलाकारों ने खास अंदाज में दी सलामी

नई दिल्ली:

हर साल 8 अक्टूबर को भारतीय वायुसेना दिवस मनाया जाता है और इस दिन हमारी प्रतिष्ठित भारतीय वायुसेना (आइएएफ) के बहादुर पुरुषों एवं महिलाओं केजोश का जश्न मनाया जाता है जो वायुक्षेत्र को सुरक्षित रखते हैं और आपदा एवं सकंट के समय में लोगों को सुरक्षित बचा लाते हैं. भारतीय वायु सेना दिवस केअवसर पर एण्डटीवी के कलाकारों संतोषी मां सुनाए व्रत कथाएं की स्वाति उर्फ बबली (तन्वी डोगरा), हप्पू की उलटन पलटन की राजेश (कामना पाठक), भाभीजीघर पर हैं के विभूति नारायण मिश्रा (आसिफ शेख) ने आइएएफ के जोश एवं प्रतिबद्धता को खास अंदाज में सलामी दी है. 

Newsbeep

तन्वी डोगरा (तन्वी उर्फ बबली) ने कहा कि, ”मैं इन वायुयोद्धाओं एवं उनके परिवारों को सलाम करती हूं और उनके प्रति अपना आभार व्यक्त करती हूं. उनका समर्पण बेमिसाल है और उनकी वजह से ही हमारे आसमान सुरक्षित हैं. बचपन में अपने वायु योद्धाओं को लेकर मेरे मन में हमेशा कौतूहल रहता था और मेरे पापा ने एक बार उनके बारे में कहा था कि वे असली सुपरहीरो हैं जो हमारी मातृभूमि को सुरक्षित रखने के लिए आसमान में उड़ान भरते हैं.  आगे आसिफ शेख (विभूति नारायण मिश्रा) ने बताया कि, ”आइएएफ को ‘भारतीय वायुसेना' के नाम से जाना जाता है और यह भारतीय सैन्य बलों की वायु शाखा है जो कार्गो एयरक्राफ्ट की मदद से प्रभावित क्षेत्रों में रैपिड रिस्पाॅन्स इवैक्युएशन, सर्च-एंड-रेस्क्यू (एसएआर) कारवाई और राहत सामग्रियों की डिलीवरी करती है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वायु सेना दिवस पर मैं इन बहादुरों को हमें आजाद एवं सुरक्षित बनाए रखने के लिएउनके अथक जोश, समर्पण और प्रतिबद्धता के लिए सलाम करता हूं. “ कामना पाठक (राजेश सिंह) ने कहा कि, ”हर साल वायु सेना दिवस पर मैं परेड, हवाई प्रदर्शनऔर एक्रोबैटिक्स देखने का बेसब्री से इंतजार करती हूँ. हमारी भारतीय वायु सेना अपनी बहादुरी, दृढ़ता और प्रतिबद्धता के कारण युवाओं के लिए प्रेरणा का स्रोत है. आज हम विकास के नए क्षेत्रों में उड़ान भर रहे हैं क्योंकि हम एक आजाद देश हैं, और इसका श्रेय इन पुरुषों एवं महिलाओं और उनके परिवारों द्वारा किए गए बलिदान को जाता है. मैं उनकी ताकत एवं साहस को सलाम करती हूं.. जय हिंद“