NDTV Khabar

करण जौहर का दावा- गलत धारणाओं का शिकार है भारतीय सिनेमा

'टायलेट : एक प्रेम कथा', 'पैडमैन' और 'बरेली की बर्फी' जैसी प्रशंसित फिल्मों का उदाहरण देते हुये 45 वर्षीय फिल्म निर्माता ने कहा कि भारतीय फिल्मों में 'छिपे हुये दृश्यों' की तुलना में और बहुत अधिक है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
करण जौहर का दावा- गलत धारणाओं का शिकार है भारतीय सिनेमा

करण जौहर

नई दिल्ली: निर्माता-निर्देशक करण जौहर का मानना है कि वैश्विक स्तर पर भारतीय फिल्मों को अभी भी गाने और डांस के इर्द-गिर्द देखा जाता है और देश की सिनेमा के बारे में ऐसी 'गलतफहमी' अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसके विकास में बाधा डालती है. 'टायलेट : एक प्रेम कथा', 'पैडमैन' और 'बरेली की बर्फी' जैसी प्रशंसित फिल्मों का उदाहरण देते हुये 45 वर्षीय फिल्म निर्माता ने कहा कि भारतीय फिल्मों में 'छिपे हुये दृश्यों' की तुलना में और बहुत अधिक है.

बॉलीवुड के सिंगल स्टार्स पहुंचे करण जौहर की वैलेंटाइन पार्टी में, देखें जश्न की Inside Photos
 
 

Bundled up in Berlin!!!!

A post shared by Karan Johar (@karanjohar) on


बर्लिन से 'पीटीआई भाषा' के साथ एक साक्षात्कार में करण ने कहा, "मैं बहुत उदास होता हूं जब देखता हूं कि पूरी दुनिया में भारतीय सिनेमा को गीत और नृत्य से जुड़ी धारणाओं से जोड़ा जाता है. हमारी फिल्मों के बारे में यह रूढ़िवादी धारणा केवल तभी बदल सकती है जब हम मनोरंजन उद्योग के एक हिस्से के रूप में जाते हैं और लोगों को बताते हैं कि पेड़ों के इर्द-गिर्द अभिनेताओं के डांस करने के अलावा कहानी कहने और सामग्री के मामले में हमारे पास बहुत कुछ है." 

तैमूर, आदिरा से अबराम खान तक, करण जौहर के Twins की बर्थडे पार्टी में पहुंचे ये Star Kids

टिप्पणियां
उन्होंने आगे कहा, "भारतीय सिनेमा वैश्विक स्तर पर गलत धारणाओं का शिकार है. आमिर (खान) की फिल्मों ने चीन में बेहतर प्रदर्शन करके साबित कर दिया है कि हम वैश्विक स्तर पर काफी सफलता हासिल कर सकते हैं."

VIDEO: करण जौहर से खास बातचीत...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...
(इनपुट: PTI)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement