इरफान खान परिवार के लिए छोड़ गए इतनी संपत्ति, बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड तक बजाया था डंका

बॉलीवुड एक्टर इरफान खान (Irrfan Khan) का मुंबई के एक अस्पाताल में बुधवार को निधन हो गया. वह 53 साल के थे और लंबे समय से एक दुलर्भ किस्म के कैंसर से जंग लड़ रहे थे.

इरफान खान परिवार के लिए छोड़ गए इतनी संपत्ति, बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड तक बजाया था डंका

इरफान खान (Irrfan Khan) की फाइल फोटो

नई दिल्ली:

बॉलीवुड एक्टर इरफान खान (Irrfan Khan) का मुंबई के एक अस्पाताल में बुधवार को निधन हो गया. वह 53 साल के थे और लंबे समय से एक दुलर्भ किस्म के कैंसर से जंग लड़ रहे थे. परिवार ने एक बयान में यह जानकारी दी. इरफान को 2018 में न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर हुआ था. उनके परिवार में पत्नी सुतापा और दो बेटे बाबिल और अयान हैं. परिवार की तरफ से जारी बयान में बताया गया कि उन्होंने परिवार और प्रियजनों के बीच आखिरी सांस ली. इरफान खान की आखिरी फिल्म अंग्रेजी मीडियम थी. उन्होंने 'जुरासिक वर्ल्ड' और 'लाइफ ऑफ पाई' जैसी इंटरनेशनल फिल्म में भी शानदार एक्टिंग की. इरफान खान निधन के बाद परिवार के लिए कितनी संपत्ति छोड़ गए, इस बात की चर्चा कई मीडिया रिपोर्ट्स में है.

इरफान खान (Irrfan Khan) को लेकर खबरें चल रही हैं कि वो करीब 320 करोड़ की संपति के मालिक थे. बताया जाता है कि वो एक फिल्म के लिए 15 करोड़ रुपये तक चार्ड करते थे. इसके अलावा वो विज्ञापनों से भी मोटी कमाई करते थे. खबर है कि एक एड के लिए वो करीब 5 करोड़ रुपये लेते थे. इरफान खान का मुंबई में एक घर भी है इसके अलावा जुहू में भी वो एक फ्लैट के मालिक थे. कहा यह भी जाता है कि वो फिल्मों में फीस के अलावा प्रॉफिट शेयर भी लेते थे. इरफान खान ऐसे एक्टर थे जिन्होंने बॉलीवुड के अलावा हॉलीवुड में भी अपनी शानदार एक्टिंग की छाप छोड़ी. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बता दें कि साल 2018 में इरफान खान (Irrfan Khan) को पता चला था कि वह न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर से पीड़ित हैं. इस बीमारी के इलाज के लिए इरफान खान लंदन भी गए थे और करीब साल भर इलाज कराने के बाद वह वापस भारत लौटे. एक्टर इरफान खान अपने इलाज के कारण काफी दिनों तक बॉलीवुड से भी दूर रहे थे. हालांकि, लंदन से स्वस्थ होकर लौटने के बाद उन्होंने बॉलीवुड में वापसी की और अंग्रेजी मीडियम की शूटिंग भी की थी. इरफान खान को बीते दिन वर्सोवा के कब्रिस्तान में दफनाया गया. लॉकडाउन के कारण उनकी अंतिम विदाई में केवल 20 लोग ही शामिल हो पाए.