संसद में गलत कविता पढ़े जाने पर जावेद अख्तर हुए निराश, सांसदों से बोले- 'मैं हाथ जोड़कर रिक्वेस्ट करता हूं कि...'

लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर 12 घंटे की लंबी बहस में भले ही कई लोगों का मनोरंजन हुआ हो, लेकिन गीतकार और पटकथा लेखर जावेद अख्तर का मानना है कि यह सत्र कविता का अपमान था.

संसद में गलत कविता पढ़े जाने पर जावेद अख्तर हुए निराश, सांसदों से बोले- 'मैं हाथ जोड़कर रिक्वेस्ट करता हूं कि...'

जावेद अख्तर (फाइल फोटो)

खास बातें

  • जावेद अख्तर ने की अपील
  • संसद में पढ़ी गई गलत शब्दों वाले कविता
  • ट्वीट कर जताया खेद
नई दिल्ली:

लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर 12 घंटे की लंबी बहस में भले ही कई लोगों का मनोरंजन हुआ हो, लेकिन गीतकार और पटकथा लेखर जावेद अख्तर का मानना है कि यह सत्र कविता का अपमान था. अपने ट्विटर अकाउंट पर जावेद ने मंगलवार को लिखा, "मैं हाथ जोड़ते हुए और बेहद विनम्रता के साथ लोकसभा में सभी राजनीति पार्टियों के सभी सांसदों से निवेदन करता हूं कि वे सभी कम से कम कविता पर रहम करें. बिना किसी अपवाद के, इस 12 घंटे के सत्र के दौरान पढ़ा गया हर शेर में गलत शब्द कहे गए, उच्चारण गलत था."

'महाभारत' विवाद: फ्रेंच जर्नलिस्ट पर भड़के जावेद अख्तर, कहा- 'जब मेरी तनख्वाह 50 रुपए थी...'

लोकसभा में 12 घंटे तक चली बहस के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित कई नेताओं ने कविताओं की कुछ पंक्तियों का इस्तेमाल किया. आम आदमी पार्टी (आप) के नेता भगवंत मान ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नारे 'अच्छे दिन' का मजाक बनाने के लिए भी एक कविता पढ़ी थी.


सलीम-जावेद की यादों में खोए फरहान अख्तर, साझा की यह पुरानी Photo

मोदी सरकार के खिलाफ 20 जुलाई को लोकसभा में चली अविश्वास प्रस्ताव की बहस में सरकार और विपक्षी दलों को एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप करते हुए देखा गया था. बहस के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सरकार पर जोरदार हमला बोलने के बाद प्रधानमंत्री मोदी को गले लगाया था.

(इनपुट आईएएनएस से)

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com