स्वामी अग्निवेश के निधन पर जावेद अख्तर ने किया ट्वीट, लिखा- दुनिया ने एक और महान इंसान खो दिया

स्वामी अग्निवेश (Swami Agnivesh) का दिल्ली के एक अस्पताल में कई अंगों के निष्क्रिय हो जाने के बाद शुक्रवार को निधन हो गया. जावेद अख्तर (Javed Akhtar) ने उन्हें लेकर एक ट्वीट किया है.

स्वामी अग्निवेश के निधन पर जावेद अख्तर ने किया ट्वीट, लिखा- दुनिया ने एक और महान इंसान खो दिया

जावेद अख्तर (Javed Akhtar) ने स्वामी अग्निवेश (Swami Agnivesh) को लेकर किया ट्वीट

नई दिल्ली:

लंबे समय से लिवर सिरोसिस से पीड़ित चल रहे सामाजिक कार्यकर्ता स्वामी अग्निवेश (Swami Agnivesh) का दिल्ली के एक अस्पताल में कई अंगों के निष्क्रिय हो जाने के बाद शुक्रवार को निधन हो गया. स्वामी अग्निवेश 80 वर्ष के थे.  स्वामी अग्निवेश (Swami Agnivesh) का अंतिम संस्कार शनिवार को शाम चार बजे गुड़गांव के बेहेलपा के अग्निलोक आश्रम में किया जाएगा. इससे पहले, उनका पार्थिव शरीर 7, जंतर मंतर रोड स्थित उनके कार्यालय में रखा जाएगा, ताकि लोग अंतिम नमन कर सकें. स्वामी अग्निवेश के निधन पर पूरे देश से रिएक्शन आ रहे हैं.  प्रख्यात लेखक व गीतकार जावेद अख्तर (Javed Akhtar) ने भी ट्वीट किया है.

अमिताभ बच्चन ने किया ट्वीट, तो शेखर सुमन बोले- सुशांत सिंह राजपूत के फैन्स की आवाज...

जावेद अख्तर (Javed Akhtar) ने स्वामी अग्निवेश (Swami Agnivesh) के निधन पर अपने ट्वीट में लिखा: "इस दुनिया ने स्वामी अग्निवेश के रूप में एक और महान इंसान को खो दिया है. बंधुआ मजदूरी के खिलाफ उनकी आवाज ने लाखों पुरुष-महिलाओं और बच्चों को एक नया जीवन दिया थ. गुड बाय स्वामी जी." जावेद अख्तर ने इस तरह स्वामी अग्निवेश को लेकर यह ट्वीट किया और उन्हें याद किया. जावेद अख्तर के ट्वीट पर लोग खूब रिएक्शन दे रहे हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

शिबानी दांडेकर के बयान पर अंकिता के सपोर्ट में उतरे सुशांत के जीजा, बोले- यह उन लोगों पर हमला करने का एक...

स्वामी अग्निवेश (Swami Agnivesh) को लेकर डॉक्टरों ने कहा था कि अग्निवेश को इंस्टीट्यूट आफ लिवर एंड बिलेरी साइंसेज (आईएलबीएस) के आईसीयू में भर्ती कराया गया था और मंगलवार से वह जीवनरक्षक प्रणाली पर थे. अस्पताल के एक प्रवक्ता ने कहा था, ‘‘वह लिवर सिरोसिस से पीड़ित थे और आज उनकी हालत बिगड़ गयी. उनके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया तथा शाम छह बजे हृदयाघात आने के बाद उनका निधन हो गया.'' उन्होंने कहा था कि स्वामी अग्निवेश को पुन: होश में लाने की कोशिश की गयी थी लेकिन शाम साढ़े छह बजे उनका निधन हो गया.