NDTV Khabar

Ayodhya Case: 'गेम ऑफ अयोध्या' ही नहीं बाबरी मस्जिद विध्वंस पर बन चुकी हैं कई बॉलीवुड फिल्में

राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद को लेकर भारतीय सिनेमा में कई ऐसी फिल्में बनीं है, जोकि काफी विवादित रही है. हाल ही में सुनील सिंह द्वारा निर्देशित फिल्म 'गेम ऑफ अयोध्या' पर काफी बवाल हो रहा है.

182 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
Ayodhya Case: 'गेम ऑफ अयोध्या' ही नहीं बाबरी मस्जिद विध्वंस पर बन चुकी हैं कई बॉलीवुड फिल्में

बाबरी मस्जिद की एक तस्वीर

नई दिल्ली: राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद को लेकर सिनेमा में कई फिल्में बनीं है, जो विवादित रही हैं. इन दिनों
सुनील सिंह निर्देशित फिल्म 'गेम ऑफ अयोध्या' पर काफी बवाल हो रहा है. हिन्दू सम्राट युवा वाहिनी का कहना है कि फिल्म में इतिहास के साथ छेड़छाड़ की गई है. यह फिल्म 8 दिसंबर को रिलीज होनी है. हालांकि यह पहली फिल्म नहीं है जो अयोध्या विवाद और दंगों पर बनी हो. इससे पहले 'बॉम्बे', 'ब्लैक फ्राइडे', 'रोड टू संगम', 'काशी का अस्सी' और 'नसीम' जैसी फिल्मों में भी बाबरी मस्जिद-अयोध्या विवाद और कई दंगों पर कुछ अंश दर्शाए गए हैं. इन फिल्मों में को कब, किसने और फिल्म में किस किरदार ने भूमिका निभाई, जिसके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं.

पढ़ें: बॉलीवुड को पछाड़ साउथ इंडियन फिल्मों ने ट्विटर पर जमाया कब्जा, 'बाहुबली 2' और 'मरसल' रही लोगों की पसंद

बॉम्बे
1995 में बनीं फिल्म 'बॉम्बे' का निर्देशन मणिरत्नम ने किया है. इस मूवी में मुख्य किरदार अरविंद स्वामी और मनीषा कोइराला ने निभाया है. दिसंबर 1992  से लेकर जनवरी 1993 के बीच उत्तर प्रदेश के अयोध्या में हुए बाबरी मस्जिद को लेकर विवाद पर केंद्रित है. फिल्म दोनों आलोचनात्मक और आर्थिक तौर पर सफल रही. इसी नाम से फ़िल्म को हिन्दी और तेलुगू भाषा में डब किया गया था. एआर रहमान द्वारा दिया गया संगीत बहुत ही सराहा गया और कई पुरस्कार उन्होंने प्राप्त किए. मणिरत्नम् के निर्देशन की भी सराहना हुई.

पढ़ें: EXCLUSIVE: बुक लॉन्चिंग के मौके पर गुलजार ने कहा, बंटवारे का दर्द अभी तक खत्म नहीं हुआ

नसीम
1992 की बाबरी मस्जिद घटना के इर्द-गिर्द बनी फिल्म नसीम 1995 को आई थी. इस फिल्म के डायरेक्टर सईद अख्तर मिर्जा थे. फिल्म की कहानी में नसीम नाम की एक युवा लड़की जोकि स्कूल जाती है और अपने दादा के बेहद करीब है. उसके दादा बाबरी मस्जिद के घटना में मौत हो जाती है. इस फिल्म को 1996 में बेस्ट डायरेक्शन और स्क्रीनप्ले के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिल चुका है. फिल्म में एक्ट्रेस मयूरो कांगो ने कमाल का अभिनय किया था.

पढ़ें: इस पंजाबी सिंगर-एक्टर से रोमांस फरमा रही है चंद्रमुखी चौटाला...

ब्लैक फ्राइडे
अनुराग कश्यप के डायरेक्शन में बनी फिल्म 'ब्लैक फ्राइडे' में आतंक का खौफनाक मंजर देखने को मिला था. अनुराग कश्यप की इस फिल्म को कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय अवॉर्ड समारोह में सराहना भी मिली. हालांकि इस फिल्म को कोई बड़ा अवॉर्ड नहीं मिल सका. डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने यह फिल्म सिर्फ 70 दिनों में बनकर तैयार हुई थी. इसकी ज्यादातर शूटिंग मुंबई और दुबई में की गई थी. बता दें कि कई जगह पर इस फिल्म की शूटिंग के लिए परमिशन नहीं मिल रही थी बावजूद इसके फिल्म की शूटिंग करनी पड़ी. हालांकि ये फिल्म रिलीज होती उससे पहले ही इस पर बैन लग गया. जिसके 3 साल बाद इस फिल्म के रिलीज होने की अनुमति मिल सकी. 

VIDEO: शशि कपूर के निधन से बॉलीवुड में शोक की लहर



रोड टू संगम
परेश रावल और ओमपुरी के अभिनय से सजी इस फिल्म में गांधीजी के सिद्धांतों और मूल्यों को दिखाने की कोशिश की गई. ‘रोड टू संगम’ की कहानी एक मुस्लिम मैकेनिक हशमत उल्लाह के इर्द-गिर्द घूमती है जिसके पास उस ट्रक का इंजन रिपेयर करने के लिए आता है जिसमें कभी महात्मा गांधी की अस्थियों को इलाहाबाद के संगम पर विसर्जित करने को ले जाया गया था. बता दें कि कई अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सवों में ‘रोड टू संगम’ ने अपना जादू बिखेरा था. लॉस एंजेलिस में इसे बेस्ट फ़ॉरेन फिल्म और बेस्ट म्यूजिकल स्कोर का पुरस्कार मिला.

 ...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement