सुशांत सिंह राजपूत के परिवार की मांग पर मुंबई पुलिस अधिकारी ने कहा, 'साफ-साफ गैरकानूनी'

"मैं 25 फरवरी को भेजे गए एक विशेष चैट पर आपका ध्यान आकर्षित करना चाहूंगा, जब यह मांग की गई थी कि मिरांडा नाम के व्यक्ति को एक दिन के लिए पुलिस हिरासत में लिया जाए और वह सब कुछ बताएगा."

सुशांत सिंह राजपूत के परिवार की मांग पर मुंबई पुलिस अधिकारी ने कहा, 'साफ-साफ गैरकानूनी'

मुंबई:

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में मुंबई पुलिस ने सुशांत के परिवार द्वारा चेतावनी दिए जाने के बावजूद कार्रवाई नहीं करने आरोपों से इनकार किया है. पुलिस ने कहा कि कथित रूप से सुशांत सिंह राजपूत की महिला मित्र रिया चक्रवर्ती की वजह से अभिनेता का अपने परिवार से संपर्क लगभग खत्म हो गया था, और सुशांत के बहनोई, जो एक पुलिस अधिकारी हैं, उन हालात को ठीक करने के लिए अपने प्रभाव का इस्तेमाल करते रहे हैं. पुलिस का कहना है कि व्हाट्सएप चैट के स्क्रीनशॉट पिछले कुछ दिनों से साझा किए गए हैं वो इसलिए किए गए हैं ताकि यह आरोप लगाया जा सके कि सुशांत के परिवार ने धमकी के बारे में पुलिस को सूचित किया था, लेकिन इसका पालन नहीं किया गया था. जबकि सच्चाई कुछ और है. मुंबई पुलिस ने बताया कि ये व्हाट्सऐप मैसेज सुशांत के जीजा ओपी सिंह और परमजीत दहिया के बीच का संवाद है. दोनों ही आईपीएस अधिकारी हैं और दहिया उस इलाके के पुलिस कमिश्नर थे जहां सुशांत रहते थे. 

पुलिस ने बताया कि हरियाणा पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ओपी सिंह ने निजी यात्रा पर फरवरी में मुंबई का दौरा किया था और उस समय इन संदेशों का आदान-प्रदान किया गया था. ओपी सिंह ने दहिया से अनुरोध किया था कि उनकी सचिन तेंदुलकर के साथ एक मुलाकात करवा दें और बांद्रा में ताज होटल में भोजन बिलों की रियायत मिल जाए जहां वह ठहरे थे.

यह भी पढ़ें- "गूगल मीट और जूम का इस्तेमाल करें" IPS विनय तिवारी को छोड़ने के सवाल पर BMC से मिला जवाब

परमजीत दहिया ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा, "मैं पहली बार फरवरी के पहले सप्ताह में उनके संपर्क में आया था, जब वह अपनी पत्नी के साथ मुंबई आए थे और मेरे अधिकार क्षेत्र में रहे थे. उस समय हमारे बीच व्हाट्सएप संदेशों का आदान-प्रदान हुआ था. ये संदेश मूल रूप से उनके रहने के बारे में थे. वह बांद्रा में रहने के लिए आया था, जो बांद्रा पुलिस स्टेशन के एसएचओ (पुलिस अधिकारी) से सुशांत सिंह राजपूत के मैनेजर को सूचित करने के लिए कहने का अनुरोध था कि 'हम यहां हैं'. यह थोड़ा अजीब लग रहा था, लेकिन ऐसा ही था."

हरियाणा के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ओपी सिंह द्वारा अन्य अनुरोधों पर दहिया ने एनडीटीवी से कहा, "19 और 25 फरवरी को व्हाट्सएप संदेश मीडिया में घूम रहे हैं. मेरी उनसे (ओपी सिंह) के साथ टेलीफोन पर बातचीत हुई थी. यह स्पष्ट रूप से बताया गया था. उनकी लिखित शिकायत के बिना हम इस मामले में आगे नहीं बढ़ सकते हैं. लेकिन उनका विचार था कि लड़की (रिया चक्रवर्ती) या उसके सहयोगियों को अनौपचारिक रूप से बांद्रा पुलिस स्टेशन में पुलिस के तरीके से बुलाया जाना चाहिए और इस मामले को उनकी संतुष्टी के लिए हल किया जाना चाहिए. "

दहिया ने आगे कहा, "मैं 25 फरवरी को भेजे गए एक विशेष चैट पर आपका ध्यान आकर्षित करना चाहूंगा, जब यह मांग की गई थी कि मिरांडा नाम के व्यक्ति को एक दिन के लिए पुलिस हिरासत में लिया जाए और वह सब कुछ बताएगा. बिना लिखित शिकायत या एफआईआर (प्रथम सूचना रिपोर्ट) के आप किसी भी व्यक्ति की पुलिस हिरासत कैसे ले सकते हैं? यह गलत है और मैंने ऐसा करने से इनकार कर दिया. मैंने उनसे स्पष्ट कहा कि हम लिखित शिकायत के बिना इस तरीके से कार्रवाई नहीं करेंगे. हमने उनसे लिखित शिकायत भेजने को कहा, लेकिन यह कभी नहीं आया, "

दहिया ने आगे कहा मैंने परिजनों को बता दिया, "... आरोप चाहे जो भी हों. मैं कोई एक्ट नहीं करने जा रहा हूं. मैं लिखित शिकायत के बिना किसी भी महिला या पुरुष को पुलिस स्टेशन नहीं बुलाने जा रहा हूं. और यह मुझे कई शब्दों में कहा गया था कि 'आप महिला (रिया चक्रवर्ती) और उसके सहयोगी को पुलिस स्टेशन बुलाएं' और इस मामले को 'पुलिस तरीके' से सुलझाएं। यह गैरकानूनी था और मैंने ऐसा करने से इनकार कर दिया. '

दहिया ने कहा कि मुंबई पुलिस के पास लिखित शिकायत दर्ज करने का कोई प्रयास नहीं किया गया. "मैं 1 अप्रैल तक बांद्रा में डीसीपी था और मेरे पास लिखित शिकायत या ईमेल देने के लिए एक महीना था, लेकिन यह कभी नहीं आया."

दहिया ने कहा कि ओपी सिंह ने मई में मुझसे मेरे स्वास्थ्य के बारे में पूछा क्योंकि मुंबई में कई आईपीएस अधिकारी के कोविड​​-19 पॉजिटिव होने के मामले सामने आए थे. सिंह ने मुंबई में फंसे प्रवासियों के बारे में भी पूछा, लेकिन सुशांत सिंह राजपूत या रिया चक्रवर्ती के बारे में कुछ भी उल्लेख नहीं किया, 

व्हाट्सएप चैट्स पर मुंबई पुलिस की प्रतिक्रिया स्पष्ट करना चाहती है कि सुशांत सिंह राजपूत का परिवार लिखित शिकायत दर्ज करने के लिए अनिच्छुक था, लेकिन रिया चक्रवर्ती और उसके सहयोगियों के खिलाफ प्रभाव का उपयोग करना चाहता था. पुलिस का कहना है अभिनेता अपने परिवार के साथ नियमित संपर्क में नहीं था और मैसेज भी ऐसा ही कुछ दर्शाते हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

रिया चक्रवर्ती से पूछताछ करेगा प्रवर्तन निदेशालय