परेश रावल ने लॉकडाउन में ढूंढ लिया 'सोशल डिस्टेंसिंग' का हिंदी अर्थ, ट्वीट कर दी जानकारी

देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) के मामले हर रोज बढ़ रहे हैं. पीएम मोदी और देश के बड़े सेलिब्रिटी इस संबंध में हिदायत के तहत सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) की बात कह रहे हैं. परेश रावल (Paresh Rawal) ने भी इस बारे में ट्वीट किया है.

परेश रावल ने लॉकडाउन में ढूंढ लिया 'सोशल डिस्टेंसिंग' का हिंदी अर्थ, ट्वीट कर दी जानकारी

परेश रावल (Paresh Rawal) का ट्वीट हुआ वायरल

खास बातें

  • परेश रावल ने लॉकडाउन ढूंढ लिया 'सोशल डिस्टेंसिंग' का हिंदी अर्थ
  • ट्वीट कर दी जानकारी
  • खूब वायरल हो रहा है वीडियो
नई दिल्ली:

देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) के मामले हर रोज बढ़ रहे हैं. पीएम मोदी और देश के बड़े सेलिब्रिटी इस संबंध में हिदायत के तहत सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) की बात कह रहे हैं. पीएम पीएम मोदी ने मंगलवार को देश को संबोधित करते कहा ता, "अगले 21 दिनों तक अपने घर से निकलना भूल जाइये और सोशल डिस्टेंसिंग . स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने चेताया कि यदि अभी कड़े कदम नहीं उठाये गए तो संक्रमण बहुत बड़े पैमाने पर फैल सकता है. बॉलवुड एक्टर परेश रावल (Paresh Rawal) ने हाल ही में सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर ट्वीट किया हा, जो खूब सुर्खियों में है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

परेश रावल (Paresh Rawal) ने ट्वीट कर कहा: "फाइनली सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का हिंदी नाम मिल ही गया. हिंदी में इसे 'तन दूरी' कहते हैं." परेश रावल के इस ट्वीट पर खूब रिएक्शन दिया है. बता दें कि परेश रावल फिल्मों के साथ-साथ सोशल मीडिया पर भी काफी एक्टिव रहते हैं और हर समसामयिक मुद्दों पर अपनी राय रखते हैं. बता दें कि भारत में कोरोनावायरस कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर अब 649 हो गई है. वहीं, इस बीमारी के शिकार 13 लोगों की मौत हो चुकी है.

कोरोनावायरस (Coronavirus) के प्रकोप के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कॉन्फ्रेस किया. उन्होंने कहा, ''प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉकडाउन का निर्णय लिया. हम नहीं चाहते कि कोई भूखा या तंगी में रहे. सरकार गरीबों तक पैसा पहुंचाएगी. एक लाख 70 हजार करोड़ का राहत पैकेज सरकार देगी. ऐसे मौके पर मजदूर और गरीब को राहत जरूरी है. हम प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज ले आए हैं. संकट के मौके पर गरीबों पर ज्यादा असर है. स्वास्थ्यकर्मियों को 50 लाख रुपए का बीमा कवर किया जाएगा. अन्न और धन से गरीबों को मदद मिलेगी.''