Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

असम के डिटेंशन सेंटर में हुई एक और शख्स की मौत, तो ऋचा चड्ढा बोलीं- हिंदू खतरे में हैं...

असम (Assam) के एक डिटेंशन सेंटर (Detention Centre) में रहने वाले 55 वर्षीय व्यक्ति की शुक्रवार को एक अस्पताल में मौत हो गई थीं. इसको लेकर ऋचा चड्ढा (Richa Chadha) ने ट्वीट किया है, जो वायरल हो रहा है.

असम के डिटेंशन सेंटर में हुई एक और शख्स की मौत, तो ऋचा चड्ढा बोलीं- हिंदू खतरे में हैं...

बॉलीवुड एक्ट्रेस ऋचा चड्ढा (Richa Chadha) ने किया ट्वीट

नई दिल्ली:

असम (Assam) के एक डिटेंशन सेंटर (Detention Centre) में रहने वाले 55 वर्षीय व्यक्ति की शुक्रवार को एक अस्पताल में मौत हो गई थीं. पुलिस ने इस संबंध में कहा था कि उन्हें 22 दिसंबर को उन्हें बड़ा स्ट्रोक होने के बाद गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा था. नरेश कोच (Naresh Koch) पिछले तीन वर्षों में डिटेंशन सेंटर में मरने वाले 29वें व्यक्ति हैं. बॉलीवुड गलियारे से इस खबर पर खूब रिएक्शन आ रहे हैं. बॉलीवुड एक्ट्रेस ऋचा चड्ढा (Richa Chadha) ने भी इस संबंध में एक ट्वीट किया है, जो खूब ध्यान खींच रहा है.

दीपिका पादुकोण ने CAA पर तोड़ी चुप्पी, बोलीं- एक्टर्स को देश छोड़ने के लिए कहा गया, जो...

ऋचा चड्ढा (Richa Chadha) ने लिखा: "हिंदू शख्स, नरेश कोच (Naresh Koch) असम के डिटेंशन सेंटर में दम तोड़ने वाले 29वें व्यक्ति हैं. सहमत, हिंदू खतरे में हैं." ऋचा चड्ढा ने इस तरह इस संबंध में अपना रिएक्शन दिया है. उनके इस ट्वीट पर यूजर्स के भी रिएक्शन आने लगे हैं. वैसे भी ऋचा चड्ढा समसामयिक मुद्दों पर अपनी राय बेबाकी से रखने के लिए जानी जाती हैं.

बॉलीवुड डायरेक्टर का मोदी सरकार पर हमला, बोले- इनका ईगो ऐसा है कि सब जलकर राख हो जाएगा लेकिन...

बता दें कि तिनिकुनिया पारा गांव के रहने वाले मजदूर नरेश कोच (Naresh Koch) साल 1964 में बांग्लादेश (उस वक्त पूर्व पाकिस्तान था) से पहले मेघालय आए. इसके बाद वह तिनिकुनिया पारा गांव में रहने लगे, वहां वह 35 साल से रह रहे थे. साल 2018 तक उन्होंने हर एक चुनाव में मतदान किया. लगातार चार बार सुनवाई में असफल होने के बाद उन्हें एक विदेशी ट्रिब्यूनल ने 2018 में विदेशी घोषित कर दिया था. नरेश कोच-राजबंशी समुदाय के थे, जिन्हें मेघालय में आदिवासी का दर्जा प्राप्त है, लेकिन असम में अनुसूचित जनजाति का दर्जा मिलने का इंतजार है.

सारा अली खान ने फिर शेयर की तस्वीरें, समुद्र किनारे दिखा एक्ट्रेस का जबरदस्त अंदाज...देखें Pics

सरकार के मुताबिक, साल 2016 से लेकर अक्टूबर 2019 तक डिटेंशन सेंटर में रहने वाले 28 लोगों की मौत हुई है. नवंबर महीने में गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने राज्यसभा में बताया था कि '22 नवंबर 2019 तक 988 विदेशियों को असम के छह डिटेंशन सेंटर में डाला गया है.' अपडेटेड नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स (NRC) में लगभग 19 लाख लोगों  को बाहर कर दिया गया था, जो कि 31 अगस्त 2019 में प्रकाशित हुआ था.

...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...