दुर्गा पूजा समिति ने पंडाल में भगवान के साथ लगाई सोनू सूद की मूर्ति, तो एक्टर का यूं आया रिएक्शन

दुर्गा पूजा समिति ने लगाई पंडाल में सोनू सूद (Sonu Sood) की मूर्ति तो एक्टर ने ट्वीट करके ये बात कही है. बता दें, सोनू सूद को उनके लॉकडाउन में किए गए कामों को लेकर काफी सराहा जा रहा है.

दुर्गा पूजा समिति ने पंडाल में भगवान के साथ लगाई सोनू सूद की मूर्ति, तो एक्टर का यूं आया रिएक्शन

सोनू सूद (Sonu Sood) का ट्वीट हुआ वायरल

खास बातें

  • दर्गा पूजा समिति ने लगाई सोनू सूद की मूर्ति
  • एक्टर ने यूं किया रिएक्ट
  • सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है ट्वीट
नई दिल्ली:

बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद (Sonu Sood) कोरोना महामारी (Corona Pandemic) में लोगों के मसीहा बनकर सामने आए. उन्होंने ना सिर्फ लोगों को उनके घरों में पहुंचाया, बल्कि उन्हें काम भी दिया. लगातार सोनू सूद गरीबों की मदद कर रहे हैं. देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी एक्टर ने भी लोगों की मदद की. ऐसे में लोग एक्टर को अपना भगवान मानने लग गए. सोनू सूद को कभी फैन्स ने 'भारत रत्न' दिलवाने की बात की, तो कभी एक्टर का नाम अपनी दुकानों पर तक लिखवा लिया. जनता अपने-अपने तरीके से सोनू सूद (Sonu Sood Twitter) से आभार जता रही हैं. इसी बीच कोलकाता में एक दुर्गा पूजा समिति ने अपने पूजा पंडाल में सोनू सूद की मूर्ति लगाई है.

Newsbeep

बता दें, दुर्गा पूजा के दौरान समिति ने पंडाल में एक्टर की मूर्ति लगाकर उन्हें 'भगवान' का दर्जा दिया है. दरअसल, प्रफुल्ला कन्नन वेलफेयर असोसिएशन नाम की पूजा समिति ने अपने पंडाल की थीम 'प्रवासी मजदूर' रखी थी. इस दौरान उन्होंने प्रवासी मजदूरों की मदद करने के लिए सोनू सूद (Sonu Sood Tweet Viral) को सम्मान दिया है. इस बात की जानकारी एएनआई के ट्विटर हैंडल द्वारा दी गई है. कमेटी के मेंबर सृंजय दत्ता ने कहा, "हमने एक्टर सोनू सूद की मूर्ति इसलिए लगवाई, ताकि लोग उनसे प्रेरणा ले सके, जरूरतमंद लोगों की मदद करने के लिए."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वहीं, समिति के इस कदम पर एक्टर सोनू सूद (Sonu Sood) ने भी रिएक्ट किया है. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, "मेरा अब तक का सबसे बड़ा अवार्ड." एक्टर के इस ट्वीट पर लोग खूब कमेंट कर रहे हैं और अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं. सोनू सूद ने मई में एनडीटीवी को दिए एक इंटरव्यू में बताया था कि प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने में शुरू में बहुत मुश्किलें आईं. उस वक्त मेरे माता-पिता ने बहुत जोश दिया. हमेशा कहा है कि आप तभी सफल हो, जब आप किसी का हाथ थामकर उसे उसकी मंजिल तक पहुंचा सकते हो. मेरा परिवार मेरे साथ दिन-रात लगा रहता है.