किसानों के समर्थन में उतरे बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद, बोले- किसान है हिंदुस्तान...

किसानों के प्रदर्शन (Farmers Protest) का आज आठवां दिन हो गया है. कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलनरत किसानों के साथ केंद्र सरकार बातचीत कर रही है. बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद (Sonu Sood) ने भी इस संबंध में ट्वीट किया है.

किसानों के समर्थन में उतरे बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद, बोले- किसान है हिंदुस्तान...

सोनू सूद (Sonu Sood)

नई दिल्ली:

किसानों के प्रदर्शन (Farmers Protest) का आज आठवां दिन हो गया है. कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलनरत किसानों के साथ केंद्र सरकार बातचीत कर रही है. उम्‍मीद है कि बातचीत में सार्थक हल निकलने से मामले में गतिरोध समाप्‍त होगा. आंदोलन कर रहे किसानों ने दोटूक लहजे में कहा है कि सरकार जब तक तीनों कृषि कानूनों को वापस नहीं लेगी, वे देश की राजधानी से नहीं हटेंगे. दूसरी तरफ किसानों के आंदोलन को लेकर बॉलीवुड सहित पंजाबी फिल्म इंडस्ट्री से जमकर रिएक्शन आ रहे हैं. अब बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद (Sonu Sood) ने भी ट्वीट किया है.

Kangana Ranaut की इस एक्ट्रेस ने ट्विटर से लगाई शिकायत, बोलीं- झूठ फैला रही हैं, एकाउंट बंद करो...

सोनू सूद (Sonu Sood) ने अपने ट्वीट में लिखा: "किसान है हिंदुस्तान." सोनू सूद ने इस तरह किसानों के समर्थन में यह बात कही है. उनके ट्वीट पर यूजर्स भी खूब रिएक्शन दे रहे हैं. वहीं दूसरी ओर किसान आंदोलन के समर्थन में अवॉर्ड वापसी का सिलसिला शुरू हो गया है. प्रकाश सिंह बादल और परगट सिंह ने पहले ही इस संबंध में घोषणा कर दी है. अब 20 से ज्यादा अर्जुन अवॉर्डी खिलाड़ियों के भी अवॉर्ड वापस करने की योजना है, ऐसी जानकारी सामने आ रही है. अर्जुन अवॉर्डी तारा सिंह, करतार सिंह पहलवान और पद्मश्री प्रेमचंद ढींगरा सहित कई बड़े अवॉर्ड विनर प्लेयर्स शनिवार को अपने अवॉर्ड वापस करने की योजना बना रहे हैं.


कंगना रनौत और दिलजीत दोसांझ के ट्विटर वॉर पर आया स्वरा भास्कर का रिएक्शन, कही यह बात...

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की, जिसके बाद उन्होंने दोनों पक्षों से इस मुद्दे को सुलझाने की अपील की. किसानों के प्रतिनिधि मंडल की आज फिर सरकार से बातचीत हो रही है. सरकार से वार्ता होने से पहले ही किसानों ने दो टूक में कह दिया था कि आज की बातचीत में सरकार के पास उनकी मांगें मानने के लिए आखिरी मौका है. किसानों के साथ मंगलवार को ही सरकार की बातचीत बेनतीजा रही थी. ऐसे में आज सरकार को कुछ ठोस परिणाम देने होंगे. किसानों ने पहले ही आगाज कर दिया है कि वो अपनी मांगें न माने जाने की स्थिति में महीनों तक धरना देने की तैयारी के साथ आए हैं.