NDTV Khabar

Stephen Hawking ने खोला ब्रह्मांड के रहस्यों का राज, ताउम्र याद रहेगी उनसे वो मुलाकात

Stephen Hawking का 76 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है. प्रसिद्ध वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का नाम आते ही एक ऐसे शख्स का चेहरा जेहन में घूम जाता है जिसने अपनी कमियों को ही अपनी खासियत बना डाला.

913 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
Stephen Hawking ने खोला ब्रह्मांड के रहस्यों का राज, ताउम्र याद रहेगी उनसे वो मुलाकात

Stephen Hawking: स्टीफन हॉकिंग ने ब्रह्मांड के रहस्यों पर से उठाया था पर्दा

खास बातें

  1. स्टीफन का जन्म इंग्लैंड के ऑक्सफोर्ड में हुआ था
  2. अ ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम की बिकी हैं एक करोड़ प्रतियां
  3. स्टीफन पर बन चुकी है फिल्म
नई दिल्ली: Stephen Hawking का 76 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है. स्टीफन हॉकिंग का नाम आते ही एक ऐसे शख्स का चेहरा जेहन में घूम जाता है जिसने अपनी कमियों को ही अपनी खासियत बना डाला. पूरी जिंदगी वह अपने शरीर की कमियों से जूझता रहा लेकिन दुनिया को ऐसा ज्ञान और जानकारी देता रहा जो पहले किसी के पास उपलब्ध नहीं थी. कॉस्मोलॉजी पर उन्होंने 'अ ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम (A Brief History of TIme) ' जैसी किताब लिखी और अपने सिद्धांतों से दुनिया भर में खास पहचान बनाई. इस किताब की एक करोड़ प्रतियां बिक चुकी हैं. स्टीफन हॉकिंग का जन्म इंग्लैंड के ऑक्सफोर्ड में 1942 में हुआ था. 'अ ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम' के जरिये मैंने उन्हें जाना और उनके काम को समझने का मौका मिला. ब्रह्मांड के उन्होंने कई रहस्य खोले थे. हमेशा सोचा था कि कैसे ये शख्स इस तरह का बेहतरीन काम कर पाता है.

Stephen Hawking की जिंदगी में 21 की उम्र में आया तूफान, यह महिला बनी ताकत

जिंदगी में ऐसे मौके बहुत कम ही आते हैं जब आप को उन लोगों से मिलने का मौका मिल जाए जो आपको इंस्पायर करते हैं, खासकर अगर वे इंटरनेशनल पर्सनेलिटी हैं तो. लेकिन मैं इस मामले में सौभाग्यशाली रहा. बात अक्टूबर, 2011 की है. मुझे स्टीवन स्पिलबर्ग की फिल्म 'टिनटिन' के प्रीमियर को कवर करने के लिए ब्रसेल्स और पेरिस जाना था. 24 अक्टूबर को मैं ब्रसेल्स पहुंचा था, और 25 अक्टूबर की सुबह हम लोगों को एक प्रोग्राम के लिए निकलना था. मैं ब्रसेल्स के होटल मेट्रोपोल के रिसेप्शन पर बैठा अपने कुछ साथियों का इंतजार कर रहा था, तभी मैंने देखा कि एक शख्स अपनी खास व्हीलचेयर पर अपने एक साथी के साथ आ रहा था. मुझे वो शख्स कुछ जाना-पहचाना लगा और तभी दिमाग में कौंधा 'स्टीफन हॉकिंग.' मेरी खुशी का ठिकाना नहीं रहा. मैंने अपनी जेब पर हाथ मारा, मेरा मोबाइल जेब में नहीं था क्योंकि उसकी बैटरी खत्म हो चुकी थी. वजह, यूरोप में भारतीय प्लग काम नहीं कर रहा था. मुझे इस पर अफसोस हुआ लेकिन मैं दौड़ता हुआ उस शख्स की ओर गया, और वहां खड़ा होकर उन्हें देखने लगा. 

ब्रह्माण्ड का रहस्य बताने वाले वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का 76 साल की उम्र में निधन, थी ये लाइलाज बीमारी

टिप्पणियां
स्टीफन हॉकिंग होटल के सेमिनार हॉल में जा रहे थे, शायद वहां कोई प्रोग्राम था. मैंने उनके हाथ को छुआ और उनके साथ आए शख्स से कहा कि मुझे इनसे मिलकर बहुत अच्छा लगा और यह ख्वाब के सच होने जैसा है. तो उस शख्स ने उस स्क्रीन पर देखा और वह बोला हां उन्हें भी अच्छा लगा और वह उस सेमिनार हॉल के अंदर एंट्री कर गए. मैं वहीं खड़ा कुछ देर के लिए उन्हें देखता रहा. मैं कभी भी साइंस का स्टुडेंट नहीं रहा लेकिन मैं उस शख्स का बहुत बड़ा फैन था और रहूंगा क्योंकि ऐसे लोग इतिहास में विरले ही होते हैं. 

 ...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement