NDTV Khabar

JNU में जब पूर्व PM मनमोहन सिंह को दिखाए गए थे काले झंडे तो स्वरा भास्कर बोलीं- इंडिया और न्यू इंडिया में यही फर्क...

बॉलीवुड एक्ट्रेस स्वरा भास्कर (Swara Bhaskar) समसामयिक मसलों पर सोशल मीडिया पर लगातार अपनी राय रखती हैं, और जेएनयू से लेकर सीएए और एनआरसी पर उन्होंने बहुत ही बेबाकी के साथ अपनी राय भी रखी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
JNU में जब पूर्व PM मनमोहन सिंह को दिखाए गए थे काले झंडे तो स्वरा भास्कर बोलीं- इंडिया और न्यू इंडिया में यही फर्क...

स्वरा भास्कर (Swara Bhaskar) ने उमर खालिद के ट्वीट का दिया जवाब

खास बातें

  1. उमर खालिद ने पूर्व पीएम को लेकर किया ट्वीट
  2. स्वरा भास्कर ने ट्वीट पर किया रिप्लाई
  3. इंडिया और न्यू इंडिया का समझाया फर्क
नई दिल्ली:

बॉलीवुड एक्ट्रेस स्वरा भास्कर (Swara Bhaskar) समसामयिक मसलों पर सोशल मीडिया पर लगातार अपनी राय रखती हैं, और जेएनयू से लेकर सीएए और एनआरसी पर उन्होंने बहुत ही बेबाकी के साथ अपनी राय भी रखी है. स्वरा भास्कर बॉलीवुड की उन कुछेक सशक्त आवाजों में से हैं जो सोशल मीडिया पर लंबे समय से सामाजिक हक की बात कर रही हैं. स्वरा भास्कर (Swara Bhaskar) ने सामाजिक कार्यकर्ता और जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद के एक ट्वीट पर रिप्लाई किया है और अपने ट्वीट के जरिये इंडिया और न्यू इंडिया के अंतर को भी समझाया है.


जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) के पूर्व छात्र और सामाजिक कार्यकर्ता उमर खालिद का ट्वीट सोशल मीडिया पर खूब पढ़ा जा रहा है. उमर खालिद का यह ट्वीट पूर्व पीएम मनमोहन सिंह को लेकर है. उमर खालिद ने लिखा हैः '2005 में, मनमोहन सिंह को जेएनयू में उनकी आर्थिक नीतियों को लेकर काले झंडे दिखाए गए थे. यह एक बड़ी खबर बनी थी. प्रशासन ने तुरंत छात्रों को नोटिस भेजा था. अगले ही दिन, पीएमओ ने हस्तक्षेप किया और प्रशासन से कहा कि छात्रों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की जाए क्योंकि प्रोटेस्ट करना उनका लोकतांत्रिक अधिकार है.'

टिप्पणियां

उमर खालिद (Umar Khalid) के इस ट्वीट पर स्वरा भास्कर (Swara Bhaskar) ने उन्हें रिप्लाई किया और लिखा, 'इंडिया और न्यू इंडिया के बीच यही फर्क था.' इस तरह स्वरा भास्कर ने अपनी राय रखी है. स्वरा भास्कर का यह ट्वीट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... कश्मीरी पंडितों का दर्द हमने कितना समझा?

Advertisement