Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

अमृता प्रीतम की जयंती पर उर्मिला मातोंडकर ने उन्हें यूं किया याद, Tweet हुआ वायरल

पंजाबी कवयित्री और कथाकार अमृता प्रीतम (Amrita Pritam) की जयंती पर उर्मिला मातोंडकर (Urmila Matondakar) ने ट्वीट किया है, जो वायरल हो रहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अमृता प्रीतम की जयंती पर उर्मिला मातोंडकर ने उन्हें यूं किया याद, Tweet हुआ वायरल

उर्मिला मातोंडकर (Urmila Matondakar) ने किया ट्वीट

खास बातें

  1. अमृता प्रीतम की जयंती पर उर्मिला मातोंडकर ने किया ट्वीट
  2. उर्मिला मातोंडकर ने उन्हें ट्वीट के जरिए किया याद
  3. अमृता प्रीतम की आज 100वीं जयंती है
नई दिल्ली:

पंजाबी कवयित्री और कथाकार अमृता प्रीतम (Amrita Pritam) की आज 100वीं जयंती है. बॉलीवुड एक्ट्रेस और हाल ही में नेता बनीं उर्मिला मातोंडकर (Urmila Matondakar) ने इस मौके पर उन्हें याद किया. उर्मिला मातोंडकर (Urmila Matondakar) ने अमृता प्रीतम (Amrita Pritam) की जयंती पर ट्वीट के जरिए उन्हें याद किया. उर्मिला मातोंडकर (Urmila Matondakar) ने लिखा:  'पिंजर' और कई ऐसे खूबसूरत साहित्य रत्नों के लिए अमृता प्रीतम (Amrita Pritam) आपका धन्यवाद. उर्मिला मातोंडकर ने इस तरह अमृता प्रीतम को याद किया. उनके ट्वीट पर खूब रिएक्शन भी आ रहे हैं.

रानू मंडल को सलमान खान ने नहीं इन्होंने दिया 55 लाख का घर, हो गया खुलासा...


पंजाबी लेखिका अमृता प्रीतम (Amrita Pritam) के सम्मान में गूगल ने भी डूडल बनाकर उनको सम्मान दिया. उर्मिला मातोंडकर (Urmila Matondakar) वैसे भी हर मुद्दे पर बेबाकी से अपनी राय रखती हैं. अमृता प्रीतम  का जन्म पंजाब के गुजरांवाला जिले में 31 अगस्त 1919 को हुआ था. उनका ज्यादातर समय लाहौर में बीता और वहीं पढ़ाई भी हुई. किशोरावस्था से ही अमृता को कहानी, कविता और निबंध लिखने का शौक था. जब वह 16 साल की थीं तब उनका पहला कविता संकलन प्रकाशित हुआ. 100 से ज्यादा किताबें लिख चुकीं अमृता को पंजाबी भाषा की पहली कवियित्री माना जाता है. भारत-पाकिस्तान बंटवारे पर उनकी पहली कविता अज आंखन वारिस शाह नू बहुत प्रसिद्ध हुई थी. 

Saaho Box Office Collection Day 1: प्रभास और श्रद्धा कपूर की फिल्म ने ली धमाकेदार ओपनिंग, पहले दिन कमा डाले इतने करोड़

अमृता प्रीतम (Amrita Pritam) को देश का दूसरा सबसे बड़ा सम्मान पद्मविभूषण मिला था. उन्हें साहित्य अकादमी पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था. 1986 में उन्हें राज्यसभा के लिए नॉमिनेट किया गया था. उन्होंने ऑल इंडिया रेडियो के लिए भी काम किया था. अमृता की आत्मकथा 'रसीदी टिकट' बेहद चर्चित है. उनकी किताबों का अनेक भाषाओं में अनुवाद भी हुआ. 31 अक्टूबर 2005 को उनका निधन हो गया था.

टिप्पणियां

...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... दिल्ली में तनाव के बीच एक बार फिर बोले कपिल मिश्रा, 'जिन्होंने बुरहान वानी और अफजल गुरु को आतंकी नहीं माना, वो...'

Advertisement