विद्या बालन की 'नटखट' से इंडियन फिल्म फेस्टिवल ऑफ मेलबर्न 2020 का होगा आगाज

महामारी के कारण इस साल का फेस्टिवल का आयोजन पूरी तरह से वर्चुअल किया गया है, फेस्टिवल 23 अक्टूबर से शुरू होगा को और 30 अक्टूबर इसका समापन होगा.

विद्या बालन की 'नटखट' से इंडियन फिल्म फेस्टिवल ऑफ मेलबर्न 2020 का होगा आगाज

विद्या बालन की 'नटखट' से इंडियन फिल्म फेस्टिवल में करेगी आगाज

नई दिल्ली:

महामारी के कारण इस साल का फेस्टिवल का आयोजन पूरी तरह से वर्चुअल किया गया है, फेस्टिवल 23 अक्टूबर से शुरू होगा को और 30 अक्टूबर इसका समापन होगा. पिछले 10 सालों से साल दर साल अगस्त में आयोजित होने वाला इंडियन फिल्म फेस्टिवल ऑफ मेलबर्न को इस साल वर्चुअल किया जा रहा है. हालांकि त्यौहार के निदेशक मितु भौमिक लैंगे ने मूल स्थान पर एक कॉम्पैक्ट शेड्यूल करने की उम्मीद की थी, जो इस महामारी के खतरे को ध्यान में रखते हुए अब लगभग 23 अक्टूबर से 30 अक्टूबर के बीच आयोजित किया जाएगा. फेस्टिवल में फिल्में मुफ्त में स्ट्रीम होंगी फेस्टिवल की आधिकारिक वेबसाइट पर उन् सभी ऑस्ट्रेलियाई सिनेमा प्रेमी के लिए.

फेस्टिवल के सभी लोकप्रिय वर्गों जैसे कि हुर्रे बॉलीवुड, बियॉन्ड बॉलीवुड, फिल्म इंडिया वर्ल्ड, डॉक्यूमेंट्रीज़ और शॉर्ट्स उसी शेड्यूल पर होने की उम्मीद है. दिलचस्प बात यह है कि इस साल फेस्टिवल की शार्ट फिल्म प्रतियोगिता की एंट्री ने रिकॉर्ड नया आकड़ा कायम किया है.

Newsbeep

वर्चुअल फेस्टिवल का आगाज़ विद्या बालन अभिनीत फिल्म नटखट से होना है, जो अभिनेत्री के प्रोडक्शन डेब्यू को भी चिह्नित करती है. फिल्म एक मां की संघर्षपूर्ण की कहानी है जो अपने युवा बेटे को लिंग समानता के बारे में सिखाती है और गलतफहमी को दूर करती है. नटखट का प्रीमियर यूट्यूब पर प्रतिष्ठित वी आर वन: एक ग्लोबल फिल्म फेस्टिवल के भाग के रूप में हुआ है, और अब IFFM में इसकी स्क्रीनिंग होगी. इसका प्रीमियर एक डबल बोनान्जा पैकेज में होगा, जिसमें मराठी फिल्म हब्बाडि भी शामिल है, जिसमें एक युवा लड़के की कहानी है जिसे बात करने में बाधा होती है. यह फिल्मे सिनेमा में विविधता का जश्न मनाते हुए IFFM के मूल मूल्य के दर्शाता है। इस साल भी फेस्टिवल, 17 भाषाओं में 60 से अधिक फिल्मों की पेशकश करेगा.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


लैंग ने एक बयान में कहा, "यह एक असामान्य स्तिथि है जिससे दुनिया गुजर रही है और अब पहले से कहीं ज्यादा इस अंधेरे समय में, सिनेमा लोगों का सहारा रही है और राहत देती रही है. IFFM दुनिया भर में फिल्म प्रेमियों का मनोरंजन करने के लिए अपनी भावना में मजबूत है. और उम्मीद है कि हम एक साथ इससे उभरेंगे.