World Cancer Day: विश्व कैंसर दिवस पर जानें इन बॉलीवुड हस्तियों ने कैसे जीती कैंसर से जंग

World Cancer Day: विश्व कैंसर दिवस हर साल 4 फरवरी को आयोजित किया जाता है, ताकि दुनिया भर में कैंसर को लेकर जागरुकता फैलाई जा सके. इस साल का थीम 'I am and I will' है.

World Cancer Day: विश्व कैंसर दिवस पर जानें इन बॉलीवुड हस्तियों ने कैसे जीती कैंसर से जंग

World Cancer Day: सोनाली बेंद्र, मनीषा कोइराला और लीसा रे ने जीती है कैंसर से जंग

खास बातें

  • 4 फरवरी को होता है विश्व कैंसर दिवस
  • बॉलीवुड की कई हस्तियों ने जीती है कैंसर से जंग
  • सोनाली, लीसा और मनीषा ने जीती है कैंसर से जंग
नई दिल्ली:

World Cancer Day: विश्व कैंसर दिवस हर साल 4 फरवरी को आयोजित किया जाता है, ताकि दुनिया भर में कैंसर को लेकर जागरुकता फैलाई जा सके. इस साल का थीम 'I am and I will' है. World Cancer Day पर दुनिया भर में इस जानलेवा बीमारी को लेकर तरह-तरह के प्रोग्राम आयोजित किए जाते हैं. लेकिन बॉलीवुड की कई हस्तियां हैं, जिन्होंने कैंसर से जंग लड़ी हैं और जीती भी है. इनमें बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनाली बेंद्रे (Sonali Bendre), मनीषा कोइराला (Manisha Koirala) और लीसा रे (Lisa Ray) के नाम प्रमुखता से आते हैं. आइए जानते हैं बॉलीवुड की इन हस्तियों के बारे में...

World Cancer Day 2020: कब और क्यों मनाया जाता है वर्ल्ड कैंसर डे, क्या होता है ब्रेस्ट कैंसर, जानें कारण, लक्षण और बचाव के उपाय 

सोनाली बेंद्रे
सोनाली बेंद्रे (Sonali Bendre) मेटास्टेटिक कैंसर (Metastatic Cancer) से जंग लड़ चुकी हैं. सोनाली बेंद्र ने ट्विटर पर इसकी जानकारी दी थी. सोनाली बेंद्रे ने न्यूयॉर्क में इलाज करवाया था.  सोनाली ने 1994 में रिलीज हुई फिल्म 'आग' से फिल्म इंडस्ट्री में एंट्री की थी. इसके बाद सोनाली ने 'सरफरोश', 'हम साथ साथ हैं' जैसी फिल्मों में अपने शानदार एक्टिंग से काफी छा गईं. उन्होंने शाहरुख खान की फिल्म 'कल हो ना हो' में एक्टिंग की है. सोनाली कई टीवी शोज जैसे 'इंडियाज गॉट टैलेंट', 'इंडियन आइडल 4' जैसे शो में जज की भूमिका में नजर आ चुकी हैं.

मनीषा कोइराला 
मनीषा कोइराला (Manisha Koirala) ने बॉलीवुड फिल्म 'सौदागर' से डेब्यू किया था और उनका सॉन्ग 'ईलू ईलू' खूब लोकप्रिय भी हुआ था. सलमान के साथ उनकी फिल्म 'खामोशी' को भी खूब पसंद किया गया था. मनीषा कोइराला को 42 साल की उम्र में, उन्हें ओवेरियन कैंसर (Ovarian Cancer) का पता चला था जिसके लिए उन्होंने न्यूयॉर्क में इलाज कराया. कई सर्जरी और कीमोथेरेपी के बाद, उन्हें 2015 में कैंसर-मुक्त घोषित किया गया था.

World Cancer Day: मुंह का कैंसर हो सकता है खतरनाक, जानें ओरल कैंसर के लक्षण, कारण और रोकथाम के उपाय

लीसा रे (Lisa Ray)
2009 में, भारतीय मूल की अभिनेत्री को Multiple Myeloma (एक अन्य प्रकार का ब्लड कैंसर) का पता चला था. लीसा रे एक साल से अधिक समय तक कैंसर से लड़ीं और 2010 में कैंसर मुक्त हुईं. एक्ट्रेस लीसा रे को सबसे ज्यादा पॉपुलेरिटी नुसरत फतेह अली खान के गाने आफरीन आफरीन से मिली थी. लीसा ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत 2001 में आई फिल्म 'कसूर' (Kasoor) से की थी. हाल ही में लीसा रे का पहला संस्मरण 'इन क्लोज टू द बोन' (In Close To The Bone) रिलीज हुआ है. इस किताब में एक्ट्रेस ने कैंसर को हराने की कहानी लिखी है.

Cancer Myths And Facts | कैंसर से जुड़े 10 मिथक! एक्‍सपर्ट से जानें फैक्ट्स | Watch Video


 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com