शेयर बाजार : 1 फरवरी को पेश होने वाले आम बजट से तय होगी बाजार की चाल

शेयर बाजार : 1 फरवरी को पेश होने वाले आम बजट से तय होगी बाजार की चाल

आगामी सप्ताह में शेयर बाजार का रुख बजट से होगा प्रभावित... (फाइल फोटो)

मुंबई:

आने वाले सप्ताह में शेयर बाजार का रुख वित्तमंत्री अरुण जेटली द्वारा 1 फरवरी को पेश किए जाने वाले 2017-18 के आम बजट से प्रभावित होगा. इसके साथ ही आर्थिक आंकड़ों, वैश्विक बाजारों के रुझान, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों और घरेलू संस्थागत निवेशकों के निवेश, डॉलर के मुकाबले रुपये की चाल और कच्चे तेल की कीमतें बाजार का रुख तय करेंगी. आम बजट 2017-18 बुधवार यानी 1 फरवरी को वित्त मंत्रालय अरुण जेटली द्वारा संसद में पेश किया जाएगा. बजट से पहल मंगलवार यानी 31 जनवरी यानी बजट सत्र के पहले दिन आर्थिक सर्वेक्षण पेश किया जाएगा. पहली बार रेल बजट को आम बजट के साथ ही प्रस्तुत किया जाएगा. इस बार बजट को पारंपरिक रूप से फरवरी के अंत में पेश करने के बजाए एक महीने पहले ही पेश किया जाएगा. बजट को पहले पेश करने का फैसला नए वित्तीय वर्ष शुरू होने से पहले खर्च और कर प्रस्तावों को पूरा करना है.

ऐसी उम्मीद है कि अरुण जेटली देश के आम करदाताओं को लाभ पहुंचाने के लिए आयकर दरों में संशोधन कर सकते हैं. मौजूदा आयकर सीमा 2.5 लाख रुपये है और सरकार इसे बढ़ाकर चार लाख रुपये कर सकती है. नोटबंदी के फैसले के बाद यह पहला बजट है इसलिए इसमें नकदी रहित लेनदेन को बढ़ावा देने के लिहाज से भी महत्वपूर्ण है. कार्ड भुगतान पर छूट, कार्ड के जरिए टॉल बूथ पर छूट आदि। रिपोटरें के मुताबिक, आगामी बजट में रेलवे और रक्षा क्षेत्र में अधिक आवंटन की उम्मीदे हैं ताकि इससे पूंजीगत क्षेत्र को प्रोत्साहन मिल सके.

अगले सप्ताह कई बड़ी कंपनियों के तिमाही नतीजे पेश होने वाले हैं जिसमें ग्रासिम इंडस्ट्रीज, टेक महिंद्रा और एचडीएफसी बैंक के तिमाही आंकड़े 30 जनवरी को घोषित किए जाएंगे. बजाज ऑटो, आईसीआईसीआई बैंक और ओएनजीसी के 31 जनवरी, आइशर मोटर्स के 1 फरवरी, एसीसी के 3 फरवरी और डॉ. रेड्डीज के 4 फरवरी को जारी किए जाएंगे. इसके साथ ही स्वतंत्र वैश्विक एजेंसी मार्किट इकोनॉमिक्स देश के जनवरी महीने के मैन्युफैक्च रिंग क्षेत्र के मासिक सर्वेक्षण को भी जारी करेंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इसके साथ ही सरकारी तेल कंपनियों के और वाहन कंपनियों के शेयरों पर निवेशकों की नजर रहेगी. अगले सप्ताह सरकारी तेल कंपनियों की मासिक ईंधन मूल्य समीक्षा होनी है. आमतौर पर अंतरराष्ट्रीय तेल बाजार के रूझान के आधार पर महीने के मध्य में या अंत में ईंधन कीमतों की समीक्षा होती है. अगले सप्ताह तेल कंपनियों की ईंधन कीमतों में संशोधन की वजह से विमानन कंपनियों के शेयरों पर भी निवेशकों की नजर रहेगी.

वैश्विक मोर्चे पर मार्किट इकोनॉमिक्स अमेरिका और यूरोक्षेत्र के जनवरी माह के मैन्युफैक्च रिंग क्षेत्र के प्रदर्शन के आधार पर मासिक सर्वेक्षण जारी करेगा. इसके साथ ही कैक्सिन चाइना जनरल मैन्युफैक्च रिंग पीएमआई के आंकड़े तीन फरवरी को जारी किए जाएंगे. फेडरल ओपन मार्किट कमिटी (एफओएमसी) दो दिवसीय बैठक के बाद मौद्रिक नीतिगत समीक्षा बैठक के नतीजे 21 जनवरी और एक फरवरी को जारी करेगा. फेडरल रिजर्व ने दिसंबर माह में 2016 में पहली बार ब्याज दरों में बढ़ोतरी की थी औ यह संकेत दिए थे कि अगले साल भी दरें तेजी से बढ़ सकती हैं.