NDTV Khabar

बजट पर सीपीएम ने कहा- सरकार किसानों को भीख की कटोरी क्यों पकड़ा रही?

सीपीएम ने कहा- किसानों के लिए 6000 रुपये के वार्षिक डायरेक्ट इनकम सपोर्ट का मतलब है सिर्फ 500 रुपये महिना

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. कहा- यह एक जुमला, सरकार ने इस बार आर्थिक सर्वेक्षण भी पेश नहीं किया
  2. सौ स्मार्ट सिटी बना नहीं पाए, अब एक लाख डिजिटल विलेज बनाने की बात
  3. स्माल, मीडियम इंटरप्राइजेस और कॉर्पोरेट सेक्टर के लिए कुछ नहीं : एसोचैम
नई दिल्ली:

केंद्र सरकार द्वारा पेश किए गए बजट पर सीपीएम ने नाखुशी जाहिर की है और उद्योग जगत भी इससे खुश नहीं हुआ. सीपीएम ने कहा है कि सरकार किसानों को भीख की कटोरी क्यों पकड़ा रही है? एसोचैम ने कहा है कि कार्पोरेट टेक्स से राहत की उम्मीद थी जो पूरी नहीं हुई.

सीपीएम के सांसद मोहम्मद सलीम ने NDTV से कहा कि किसानों के लिए 6000 रुपये के वार्षिक डायरेक्ट इनकम सपोर्ट का मतलब है सिर्फ 500 रुपये महिना. सरकार किसानों को भीख की कटोरी क्यों पकड़ा रही है? ये उन्होंने कहा कि यह एक जुमला है. सरकार ने इस बार आर्थिक सर्वेक्षण भी पेश नहीं किया. आर्थिक सर्वेक्षण से पता चलता कि अर्थव्यवस्था की हालत क्या है?

किसान को आधा कप चाय की कीमत देकर अपनी पीठ थपथपा रही सरकार : रणदीप सुरजेवाला


सलीम ने कहा कि सौ स्मार्ट सिटी बना नहीं पाए और अब एक लाख डिजिटल विलेज बनाने की बात कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि नीति आयोग डेटा छुपा रहा है. पिछले साल  एक करोड़ 10 लाख लोग बेरोजगार हो गए.

VIDEO : बजट पर मध्यम वर्गीय परिवारों की प्रतिक्रिया

टिप्पणियां

एसोचेम के अध्यक्ष बीके गोयनका ने NDTV से कहा कि अगर आप सीधे सवाल मुझसे पूछें कि स्माल, मीडियम इंटरप्राइजेस और कॉर्पोरेट सेक्टर के लिए बजट 2019 में क्या है तो मेरा जवाब होगा नो... हमें उम्मीद थी कि कॉर्पोरेट टैक्स में राहत मिलेगी लेकिन कोई राहत नहीं है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों (Election News in Hindi), LIVE अपडेट तथा इलेक्शन रिजल्ट (Election Results) के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement