नोटबंदी के बाद पैन कार्ड आवेदन की संख्या में 300 फीसदी इजाफा

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने बताया है कि नोटबंदी के बाद स्थायी खाता संख्या यानी पैन कार्ड के आवेदनों में 300 फीसदी का इजाफा आया है.

नोटबंदी के बाद पैन कार्ड आवेदन की संख्या में 300 फीसदी इजाफा

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली:

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने बताया है कि नोटबंदी के बाद स्थायी खाता संख्या यानी पैन कार्ड के आवेदनों में 300 फीसदी का इजाफा आया है. बोर्ड के चेयरमैन सुशील चंद्र ने कहा कि नोटबंदी से पहले हर महीने करीब 2.5 लाख पैनकार्ड आवेदन आते थे, लेकिन सरकार के नोटबंदी के आदेश के बाद यह संख्या बढ़कर 7.5 लाख हो गई. उल्लेखनीय है कि सरकार ने पिछले साल आठ नवंबर को 500 और 1,000 रुपये पुराने नोटों को बंद कर दिया था.

यह भी पढ़ें : पैन कार्ड में कुछ गलती है...? ठीक करवाने के लिए ये स्टेप करें फॉलो

सुशील चंद्र ने कहा कि कालेधन के खिलाफ विभाग कई कदम उठा रहा है. इनमें दो लाख रुपये से अधिक के नकद लेनदेन पर रोक लगाना भी शामिल है. पैन 10 अंक की एक अक्षर-अंक संख्या (अल्फान्यूमैरिक) होती है जो आयकर विभाग किसी व्यक्ति या कंपनी को जारी करता है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO : नोटबंदी का सियासी असर कितना?
इसका उपयोग आयकर रिटर्न दाखिल करने के लिए अनिवार्य है. अभी देश में करीब 33 करोड़ पैनकार्ड धारक हैं.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)