NDTV Khabar

1000 रुपये से शुरू हुई रिलायंस आज बनी 6 लाख करोड़ रुपये की कंपनी, जानिए कैसे हुआ ये......

बीते 40 साल में देश की सबसे बड़ी कंपनी में से एक बनी है रिलायंस, तकरीबन हर क्षेत्र में दे रही है सेवाएं

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
1000 रुपये से शुरू हुई रिलायंस आज बनी 6 लाख करोड़ रुपये की कंपनी, जानिए कैसे हुआ ये......

फाइल फोटो

नई दिल्ली: धीरूभाई अंबानी ने इस कंपनी को 1977 में स्थापित किया था. कंपनी के स्थापित होने के बाद से लेकर आजतक यह कंपनी हर क्षेत्र में अपना कोराबार बढ़ा रही है. धीरूभाई अंबानी ने इस कंपनी को महज एक हजार रुपये से शुरू किया था. बीते 40 साल के सफर में यह कंपनी आज कुल 6 लाख करोड़ रुपये की हो गई है. कंपनी के बढ़ते दायरे का ही असर है कि आज यह कंपनी देश की शीर्ष कंपनी में से एक है. आइये जानते हैं इस कंपनी से जुड़ी 10 अहम बातें.....

जब हुई स्थापना 
वर्ष 1977 में स्थापना के साथ इस कंपनी ने पहली बार अपना आईपीओ जारी किया. धीरू भाई अंबानी भारत में इक्विटी क्लट शुरू किया. 

यह भी पढ़ें: संजय निरुपम ने अदानी-रिलायंस इंफ्रा सौदे पर उठाए सवाल, बिजली दर बढ़ने की आशंका भी जताई

पॉलिस्टर का प्रोडक्शन शुरू 
वर्ष 1982 में कंपनी ने पहली दफा पॉलिस्टर की मैन्यूफैक्चरिंग शुरू की. जो बाद में काफी चर्चित हुई. इसके बाद कंपनी से बड़ी संख्या में कर्मचारी भी जुड़े. 

पहली बार रिफाइनरी क्षेत्र मे आए
वर्ष 1991 में रिलायंस ने पहली बार रिफाइनरी क्षेत्र में प्रवेश किया. इसके बाद ही कंपनी ने पॉलीमर के व्यापार में प्रवेश किया.इससे भी कंपनी का काफी फायदा हुआ.

पहली बार बिजनसमैन ऑफ द ईयर चुने गए 
वर्ष 1994 में रिलायंस ने पहली बार यूएस 300 मीलियन डॉलर का जीडीआर इशू करने की वजह से धीरू भाई को पहली बार बिजनसमैन ऑफ द ईयर चुना गया. 

यूएसए के विश्वविद्यालय ने किया सम्मानित 
वर्ष 1998 में वार्थन स्कूल, यूनिवर्सटी ऑफ पेनिसेलवानिया ने धीरू भाई को आउट स्टैंडिंग लीडरशिप के लिए सम्मानित किया. इतने बड़े स्तर पर पहली बार मिला था सम्मान.

यह भी पढ़ें: Reliance Jio का नया रीचार्ज प्लान, 299 रुपये में हर दिन मिलेगा 2 जीबी 4जी डेटा

फिक्की ने दिया एंटरप्रिन्योर अवॉर्ड
वर्ष 2000 में रिलायंस को फिक्की द्वारा 20 सदी का  इंडियन एंटरप्रिन्योर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया.

आरपीएल का आरआईएल मर्जर
वर्ष 2002 में आरपीएल का आरआईएल मर्जर हुआ. इसके बाद आरआईएल देश की पहली प्राइवेट सेक्टर कंपनी बनी. 

नेचुरल गैस रीसर्व की खोज 
वर्ष 2009 में रिलायंस ने महानदी बेसिन में नेचुरल गैस रीसर्व की खोज की. इसी साल कंपनी ने अपनी इक्विटी बेचने के साथ बाजार से 3,188 करोड़ रुपये बनाए. 

यह भी पढ़ें: MyJio एंड्रॉयड ऐप में आया हैलोजियो वॉयस असिस्टेंट

रिलायंस जियो ने स्पेक्ट्रम में शामिल हुआ 
वर्ष 2014 में रिलायंस जियो 800 व 1800 एमएचजेड बैंड स्पेक्ट्रम का अधिग्रहण किया. 

VIDEO: देखिए जियो फोन का रिव्यू


टिप्पणियां



हरियाणा में 1300 करोड़ का निवेश 
रिलायंस ने वर्ष 2016 में हरियाणा में 1300 करोड़ रुपये का निवेश की बात की. इसी साल कंपनी ने 8,100 कीलोमीटर लंबा केबल सिस्टम बनाया.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement