NDTV Khabar

डिजिटल मीडिया में विज्ञापन बढ़ा रहीं हैं कंपनियां

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. युवाओं को आकर्षित करने के लिए अब ब्रांड और बाजार विशेषज्ञ डिजिटल विज्ञापन पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं और कंपनियां इस माध्यम पर अपना विज्ञापन खर्च बढ़ा रही हैं।
नई दिल्ली:

युवाओं को आकर्षित करने के लिए अब ब्रांड और बाजार विशेषज्ञ डिजिटल विज्ञापन पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं और कंपनियां इस माध्यम पर अपना विज्ञापन खर्च बढ़ा रही हैं।

एलजी इलेक्ट्रानिक्स इंडिया और भारती एयरटेल जैसी कंपनियां अब अपने डिजिटल विज्ञापन पर ज्यादा खर्च कर रही हैं जबकि मारुति सुजुकी और हुंदै जैसी वाहन कंपनियां पहले से ही इस माध्यम पर ज्यादा खर्च कर रही हैं।

स्माईल समूह के संस्थापक और अध्यक्ष हरीश बहल ने कहा ‘हम देख रहे हैं सारे ब्रांड और कंपनियां डिजिटल माध्यम पर ज्यादा से ज्यादा खर्च कर रही हैं। हमारे सभी ग्राहक अब अपने कुल विज्ञापन बजट का कम से कम 10 फीसद हिस्सा डिजिटल माध्यम पर खर्च करना चाहते हैं।’ पिछले साल इंटरनेट विज्ञापन में जितनी वृद्धि दर्ज हुई उसी से यह रुख स्पष्ट होता है। ‘पिच मैडिसन मीडिया ऐड आउटलुक 2012’ के मुताबिक 2011 में आनलाइन विज्ञापन का कुल बाजार 1,535 करोड़ रुपए का हो गया जो 2010 के मुकाबले 45 फीसद अधिक है।

एलजी इलेक्ट्रानिक्स इंडिया के मुख्य विपणन अधिकारी एल के गुप्ता ने कहा ‘इस साल हम डिजिटल माध्यम पर 40 करोड़ रुपए खर्च करेंगे जो इस साल के हमारे बजट का आठ से 10 फीसद है। पिछले तीन साल से हम हर साल डिजिटल मीडिया पर खर्च दोगुना करते जा रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि विज्ञापन के लिए निवेश सभी खंडों - सर्च, डिस्प्ले मार्केटिंग और सोशल मीडिया - पर खर्च किया जा रहा है। प्रतिस्पर्धा बढ़ने के बीच दूरसंचार कंपनी भारती एयरटेल भी डिजिटल विज्ञापन पर अपना खर्च बढ़ा रही है।


भारती एयरटेल के प्रमुख :मीडिया और ग्रामीण: अरुण शर्मा ने बिना विशेष ब्यौरा दिए कहा ‘फिलहाल हम डिजिटल माध्यम पर अपने कुल विज्ञापन बजट का करीब आठ फीसद हिस्सा खर्च करते हैं और अगले यह 10 फीसद तक हो सकता है।’ गूगल इंडिया के विपण प्रमुख निखिल रुंगटा ने कंपनियों के नए दौर के इस माध्यम को अपनाने के संबंध में कहा ‘कंपनियों को धीरे-धीरे यह लगने लगा है कि डिजिटल माध्यम बहुत महत्वपूर्ण है। कोका कोला और एचयूएल जैसे कई ब्रांड डिजिटल माध्यम में निवेश कर रहे हैं ताकि उपभोक्ताओं को अपने साथ जोड़ा जा सके।’ डिजिटल माध्यम की वृद्धि दर तेज होती है ऐसे में यह सवाल भी उठ रहा है कि यह टीवी और प्रिंट जैसे पारंपरिक माध्यम को कैसे प्रभावित करेगा।

टिप्पणियां

मल्टी स्क्रीन इंडिया प्राईवेट लिमिटेड के वरिष्ठ उपाध्यक्ष और मैक्स के प्रमुख गौरव सेठ ने कहा ‘डिजिटल माध्यम पारंपरिक मीडिया के साथ-साथ चल सकता है। समस्य तब उठेगी जबकि प्रिंट और टीवी जैसे पारंपरिक माध्यम संतृप्ति (उच्चतम) सीमा तक पहुंच जाएगा, लेकिन ऐसी हालत अभी भारत में नहीं है।’ फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल मीडिया वेबसाइट का उपयोग जंगल में आग की तरह फैल रहा है ऐसे में मारुति सुजुकी इस साल युवाओं को आकर्षित करने के लिए डिजिटल माध्यम पर खर्च दोगुना कर 16 करोड़ रुपए कर रही है जबकि पिछले साल यह आठ करोड़ रुपए था।

इसी तरह हुंदै मोटर इंडिया लिमिटेड भी फिलहाल डिजिटल मीडिया पर अपने कुल विज्ञापन खर्च का आठ फीसद खर्च रही है जो दो साल पहले दो फीसद था।



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement