NDTV Khabar

विप्रो के बाद टेक महिंद्रा ने शुरू की कर्मचारियों की छटनी, 1000 कर्मचारियों पर गिरी गाज

रोजगार और विकास का दंभ भरने वाली सरकार के दावों से उलट जॉब्स की दुनिया का हाल बुरा चल रहा है. कर्मचारियों की छटनी लगातार जारी है. विप्रो ने अपने कर्मचारियों की संख्या पर कैची चलाने की तैयारी में जुट गया है तो इन्फोसिस ने इस काम के लिए रिव्य करना शुरू कर दिया है.

22 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
विप्रो के बाद टेक महिंद्रा ने शुरू की कर्मचारियों की छटनी, 1000 कर्मचारियों पर गिरी गाज

सालाना प्रदर्शन के हिसाब से आईटी कंपनियां अपने कर्मचारियों की छटनी करती हैं

नई दिल्ली:

रोजगार और विकास का दंभ भरने वाली सरकार के दावों से उलट जॉब्स की दुनिया का हाल बुरा चल रहा है. आईटी कर्मचारियों की छटनी लगातार जारी है. विप्रो ने अपने कर्मचारियों की संख्या पर कैची चलाने की तैयारी में जुट गया है तो इन्फोसिस ने इस काम के लिए रिव्य करना शुरू कर दिया है. इनके बाद अब बारी है देश की 5वीं सबसे बड़ी कंपनी टेक महिंद्रा की. टेक महिंद्रा कंपनी अपने कर्मचारियों की छटनी शुरू कर दी है. सालाना परफॉर्मेंस प्रोसेस के तहत एक हजार से अधिक कर्मचारियों को उनके काम से हटा दिया गया है.

जानकारी के मुताबिक टेक महिंद्रा ने सालाना परफॉर्मेंस रिव्य करना शुरू कर दिया है. छटनी की गाज अभी और कितने कर्मचारियों पर गिरेगी यह पता नहीं चल पाया है. कंपनी में 1.17 लाख से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं. 

टिप्पणियां

कंपनी का कहना है कि हर साल बेहद खराब प्रदर्शन करने वाले कर्मचारियों की छटनी की जाती है और इस साल भी ऐसा ही होगा.


बता दें कि देश की तीसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेटर सेवा कंपनी विप्रो ने करीब 600 कर्मचारियों को अप्रैल में बाहर का रास्ता दिखाया था. यहां छटनी की प्रक्रिया अभी भी जारी है. बताया जा रहा है कि करीब दो हज़ार कर्मचारियों पर इसका असर पड़ेगा. 
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement