NDTV Khabar

NPS : विश्व की सबसे कम लागत की पेंशन योजना में शामिल होने की उम्र 65 वर्ष तक हुई

उन्होंने कहा, 'एनपीएस में अभी 18 से 60 वर्ष के उम्र के लोग शामिल हो सकते हैं और हमारे बोर्ड ने उम्रसीमा बढ़ाकर 65 वर्ष तक करने को मंजूरी दे दी है.'

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
NPS : विश्व की सबसे कम लागत की पेंशन योजना में शामिल होने की उम्र 65 वर्ष तक हुई

(प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  1. एनपीएस में अभी 18 से 60 वर्ष के उम्र के लोग शामिल हो सकते हैं.
  2. उम्रसीमा बढ़ाकर 65 वर्ष तक करने को मंजूरी दे दी है.
  3. यह आज विश्व की सबसे कम लागत की पेंशन योजना है.
नई दिल्ली: विश्व की सबसे कम लागत की पेंशन योजना यानी NPS में जुड़ने के लिए आयु सीमा में बदलाव किए गए हैं. पेंशन निधि विनियामक और विकास प्राधिकरण (पीएफआरडीए) ने सोमवार को राष्ट्रीय पेंशन योजना (एनपीएस) में जुड़ने की ऊपरी आयु सीमा को मौजूदा 60 वर्ष से बढ़ाकर 65 वर्ष करने की घोषणा की. पीएफआरडीए के अध्यक्ष हेमंत कांट्रक्टेर ने 'वृद्धावस्था फंड को राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली में स्थांतरित करने' के कार्यक्रम के दौरान कहा, 'पेंशन नियामक बोर्ड ने पहले ही इस बदलाव को हरी झंडी दे दी है और जल्द ही इस संबंध में अधिसूचना जारी की जाएगी.'

उन्होंने कहा, 'एनपीएस में अभी 18 से 60 वर्ष के उम्र के लोग शामिल हो सकते हैं और हमारे बोर्ड ने उम्र सीमा बढ़ाकर 65 वर्ष तक करने को मंजूरी दे दी है.'

यह भी पढे़ं : पीएफ बकाया : EPFO ने वसूली के लिये पांच बैंकों के साथ किया गठजोड़, करीब 125 करोड़ रुपये बचेंगे

उन्होंने कहा कि इस योजना में उम्रसीमा बढ़ाए जाने का विकल्प है और उम्रसीमा बढ़ाकर 70 वर्ष तक करने की योजना है. पेंशन में रिफॉर्म करने के सरकार के निर्णय के पीछे तर्क देते हुए उन्होंने कहा कि इसका उद्देश्य पोर्टेबिलिटी को बढ़ाना या एनपीएस में वृद्धावस्था फंड को स्थांतरित कर इसे ज्यादा आकर्षक और ग्राहकों के लिए आसान बनाना है.

टिप्पणियां
कांट्रेक्टर ने कहा, 'हमारा उद्देश्य ऐसे सेक्टर के लिए पेंशन योजना शुरू करना है जहां यह उपलब्ध नहीं है. केवल 15 से 16 प्रतिशत कर्मचारियों को पेंशन का लाभ मिल रहा है, क्योंकि भारत में लगभग 85 प्रतिशत कर्मचारी असंगठित और अनियमित क्षेत्रों में काम करते हैं.' एनपीएस के फायदे के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि यह आज विश्व की सबसे कम लागत की पेंशन योजना है. लागत बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि लगातार 25 से 30 वर्षो तक एक प्रतिशत के भी फर्क से कम से कम 15 से 16 प्रतिशत का फर्क पैदा हो सकता है. 

VIDEOS : पीएफ पर टैक्स का ऐलान
उन्होंने कहा, 'हमारा फंड प्रबंधन खर्च सबसे कम 0.01 प्रतिशत है जब आप दूसरे के 0.4 या 0.5 प्रतिशत खर्च के साथ तुलना करते हैं.(इनपुट आईएएनएस से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement