NDTV Khabar

कोहरे के मौसम में एयर इंडिया ने अपने 17 बेस्ट पायलटों को ट्रेनिंग पर भेजा, विवाद शुरू

कोहरे के मौसम में एयर इंडिया द्वारा लिए गये एक फैसले पर सवाल उठने शुरू हो गये हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कोहरे के मौसम में एयर इंडिया ने अपने 17 बेस्ट पायलटों को ट्रेनिंग पर भेजा, विवाद शुरू

एयर इंडिया (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. कोहरे के मौसम में बेस्ट पायलटों को ट्रेनिंग पर भेजने पर मामला गरमाया.
  2. एयर इंडिया ने अपने 17 बेस्ट पायलटों को ट्रेनिंग पर भेजा है.
  3. ये पायलट कम-दृश्यता परिचालन के लिए प्रशिक्षित होते हैं.
मुंबई: कोहरे के मौसम में एयर इंडिया द्वारा लिए गये एक फैसले पर सवाल उठने शुरू हो गये हैं. सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया ने इस कोहरे वाले मौसम के बीच अपने 17 सीनियर ए320 पायलटों के एक बैच को बोइंग कमांड पाठ्यक्रम की ट्रेनिंग के लिए भेजा है. बता दें कि ये पायलट कम-दृश्यता परिचालन के लिए प्रशिक्षित हैं. एयर इंडिया के इस फैसले से कम-दृश्यता में परिचालन के लिए प्रशिक्षित पायलटों की कमी हो गई है. इन पायलटों को सर्दी के मौसम में उत्तरी मार्गों पर तैनात किया जाना आवश्यक है. 

यह भी पढ़ें - एयर इंडिया के वीआईपी लाउंज में भोजन में मिला कॉकरोच, एयरलाइन ने माफी मांगी

विमानन कंपनी के एक सूत्र ने कहा कि ये पायलट सर्दियों में परिचालन के लिए महत्वपूर्ण हैं. जिस वजह से इनको प्रशिक्षण के लिए भेजने पर सवाल खड़े हो गए हैं. ग्राउंड पाठ्यक्रम पूरा होने के बाद इन पायलटों को सिम्युलेटर प्रशिक्षण के लिए कम से कम पांच से छह महीने इंतजार करना होगा. सूत्र ने बताया, "जिन सीनियर ए 320 कमांडरों को दो महीने के प्रशिक्षण के लिए भेजा गया है, वे कैट-द्वितीय/तृतीय अर्हता प्राप्त पायलट हैं." 

यह भी पढ़ें - एयर इंडिया के वीआईपी लाउंज में भोजन में मिला कॉकरोच, एयरलाइन ने माफी मांगी

टिप्पणियां
उन्होंने कहा, "एयर इंडिया इन पायलटों को भेजने के लिए इच्छुक नहीं था, लेकिन जब एक केंद्रीय मंत्री (जिसका विमानन क्षेत्र से कोई संबंध नहीं था) की ओर से दबाव आया तो विमानन कंपनी को तैयार होना पड़ा." सूत्र ने आगे कहा कि इन 17 पायलटों में से एक केंद्रीय मंत्री का करीबी है और वह चाहता था कि मंत्री इस मामले में हस्तक्षेप करें. उन्होंने कहा कि कैट तृतीय-बी अर्हता प्राप्त कमांडरों को सर्दी के मौसम में हैदराबाद के केंद्रीय प्रशिक्षण संस्थान में दो महीने के प्रशिक्षण के लिए भेजा गया है. तृतीय श्रेणी एक उन्नत नेविगेशन प्रणाली है जो विमान को कोहरे की परिस्थितियों में उतारने में समर्थ बनाता है.

VIDEO: एयर इंडिया ने घरेलू उड़ानों में नॉन वेज खाना न परोसने का फ़ैसला किया (इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement