NDTV Khabar

एयर इंडिया का मौजूदा कारोबार टिकाऊ नहीं : सरकार ने संसदीय समिति से कहा

नागर विमानन मंत्रालय ने उन कारणों का ब्योरा संसदीय समिति को दिया है, जिसके चलते एयर इंडिया में हिस्सेदारी बेचने का फैसला किया गया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एयर इंडिया का मौजूदा कारोबार टिकाऊ नहीं : सरकार ने संसदीय समिति से कहा

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली: सरकार ने एक संसदीय समिति के समक्ष कहा है कि एयर इंडिया का मौजूदा कारोबार टिकाऊ नहीं है, क्योंकि न तो वह पर्याप्त कमाई कर पा रही है और न ही उसने अपने कर्ज के मूलधन तक का भुगतान करना शुरू किया है. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने घाटे में चल रही एयर इंडिया में हिस्सेदारी बेचने को सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है. मंत्रिमंडलीय समिति प्रस्तावित विनिवेश के अंतिम प्रारूप पर काम कर रहा है. इसके मद्देनजर संसदीय समिति ने एयर इंडिया में विनिवेश के फैसले का ब्योरा मांगा है.
यह भी पढ़ें
एयर इंडिया में सरकार के साथ संयुक्त मालिकाना हक एक मुश्किल प्रस्ताव : इंडिगो

सूत्रों ने बताया कि नागर विमानन मंत्रालय ने उन कारणों का ब्योरा संसदीय समिति को दिया है, जिसके चलते एयर इंडिया में हिस्सेदारी बेचने का फैसला किया गया. सूत्रों के अनुसार मंत्रालय ने समिति को सूचित किया है कि मौजूदा परिदृश्य में एयर इंडिया न तो पर्याप्त नकदी प्रवाह सृजित करने की स्थिति में और न ही वह अपने कर्ज के मूलधन का भुगतान कर पा रहा है.

टिप्पणियां
VIDEO : एयर इंडिया के विनिवेश के फैसले का विरोध
मंत्रालय के बयान के हवाले से सूत्रों ने कहा कि मौजूदा परिचालन सहित अन्य कारकों को ध्यान में रखते हुए एयर इंडिया का मौजूदा कारोबार टिकाऊ नहीं है. संसद की स्थायी समिति (परिवहन, पर्यटन व संस्कृति) इस मुद्दे पर सरकारी प्रति​निधियों का पक्ष अगले महीने सुनने वाली है.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement