एयरटेल में हिस्सेदारी खरीद सकती है अमेजन, बातचीत शुरुआती चरण में

ई-कॉमर्स क्षेत्र की दिग्गज कंपनी अमेजन दूरसंचार कंपनी भारती एयरटेल में संभावित निवेश के लिए शुरुआती बातचीत कर रही है. सूत्रों ने यह जानकारी दी. हालांकि अमेजन कितना निवेश करना चाहती है, इसकी तत्काल जानकारी नहीं मिल पाई है.

एयरटेल में हिस्सेदारी खरीद सकती है अमेजन, बातचीत शुरुआती चरण में

एयरटेल में हिस्सेदारी खरीद सकती है अमेजन.

खास बातें

  • शुरुआती चरण में है अभी बातचीत
  • यह निवेश दो अरब डॉलर का हो सकता है
  • कहा- सभी डिजिटल और ओटीटी खिलाड़ियों के साथ काम करते हैं
नई दिल्ली:

ई-कॉमर्स क्षेत्र की दिग्गज कंपनी अमेजन दूरसंचार कंपनी भारती एयरटेल में संभावित निवेश के लिए शुरुआती बातचीत कर रही है. सूत्रों ने यह जानकारी दी. हालांकि अमेजन कितना निवेश करना चाहती है, इसकी तत्काल जानकारी नहीं मिल पाई है. एक रिपोर्ट में कहा गया है कि यह निवेश दो अरब डॉलर का हो सकता है. इस बारे में संपर्क करने पर भारती एयरटेल के प्रवक्ता ने कहा, ‘हम सामान्य रूप से सभी डिजिटल और ओटीटी खिलाड़ियों के साथ काम करते हैं. हम अपने ग्राहक आधार को व्यापक करने के लिए उनके उत्पाद, सामग्री और सेवाएं लाने के लिए बातचीत करते हैं. इसके अलावा हमारे पास बताने को कुछ नहीं है.'

अमेजन इंडिया के प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी इन अटकलों पर प्रतिक्रिया नहीं देती कि वह अब या भविष्य में क्या करेगी. एयरटेल में अमेजन द्वारा हिस्सेदारी लेने की चर्चा ऐसे समय हो रही है जबकि भारतीय दूरसंचार कंपनियां वैश्विक निवेशकों और प्रौद्योगिकी क्षेत्र के दिग्गजों के रडार पर हैं. पिछले कुछ सप्ताह के दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज के डिजिटल मंच जियो ने फेसबुक, केकेआर, सिल्वर लेक पार्टनर्स, विस्टा इक्विटी पार्टनर्स तथा जनरल अटलांटिक से अरबों डॉलर जुटाए हैं.

बाजार सूत्रों ने कहा कि अमेजन और एयरटेल के बीच संभावित निवेश और इक्विटी हिस्सेदारी के लिए बातचीत चल रही है. हालांकि यह बातचीत काफी शुरुआती चरण में है. उद्योग के एक सूत्र ने कहा कि वैश्विक प्रौद्योगिकी कंपनियां भारतीय बाजार में अधिक हिस्सेदारी हासिल करना चाहती हैं, ऐसे में अभी और खबरें आ सकती हैं.

57.4 करोड़ के साथ भारत इंटरनेट प्रयोगकर्ताओं की संख्या के मामले में दुनिया में दूसरे स्थान पर है. पिछले सप्ताह इस तरह की खबरें आई थीं कि अल्फाबेट इंक की गूगल की निगाह वोडाफोन आइडिया में पांच प्रतिशत हिस्सेदारी लेने पर है. हालांकि, दूरसंचार कंपनी ने स्पष्ट किया है कि वह नियमित रूप से अवसरों का आकलन करती है. अभी कंपनी के बोर्ड के समक्ष इस तरह का कोई प्रस्ताव नहीं आया है.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com