NDTV Khabar

अरुण जेटली का वादा, जीएसटी (GST) दरें ‘हैरान’ करने वाली नहीं होंगी

20 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अरुण जेटली का वादा, जीएसटी (GST) दरें ‘हैरान’ करने वाली नहीं होंगी

अरुण जेटली का वादा, जीएसटी (GST) दरें ‘हैरान’ करने वाली नहीं होंगी (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. जेटली बोले कर की दरें तय करते समय हैरान करने वाला फैसला नहीं लिया जाएगा
  2. कर दरें मौजूदा स्तर से ‘उल्लेखनीय रूप से अलग’ नहीं होंगी
  3. जीएसटी से केंद्रीय और राज्य शुल्कों का मौजूदा प्रभाव समाप्त हो सकेगा.
नई दिल्ली: वित्त मंत्री अरुण जेटली ने वादा किया कि नई वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) व्यवस्था में कर की दरें तय करते समय किसी तरह का हैरान करने वाला फैसला नहीं लिया जाएगा. उन्होंने कहा कि कर दरें मौजूदा स्तर से ‘उल्लेखनीय रूप से अलग’ नहीं होंगी.

हालांकि, वित्त मंत्री ने कहा कि कंपनियों को जीएसटी के तहत करों में कटौती का लाभ उपभोक्ताओं को स्थानांतरित करना चाहिए. जीएसटी से केंद्रीय और राज्य शुल्कों का मौजूदा प्रभाव समाप्त हो सकेगा.

वित्त मंत्री जेटली की अगुवाई वाली जीएसटी परिषद की 18-19 मई को श्रीनगर में बैठक होने जा रही है जिसमें विभिन्न वस्तुओं और सेवाओं पर कर की दरों को अंतिम रूप दिया जाएगा. इससे पहले कम से कम 10 अप्रत्यक्ष करों का एकीकरण जीएसटी में किया जाएगा.

भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) की वार्षिक बैठक को संबोधित करते हुए जेटली ने कहा कि जीएसटी के संचालन के लिए सभी नियम और नियमन तैयार हो गए हैं. ‘अब हम विभिन्न जिंसों के लिए दरें तय करने के अंतिम चरण में हैं.’ वित्त मंत्री ने कहा, ‘यह कार्य जिस फार्मूला के तहत किया जा रहा है उसके बारे में भी बताया जा चुका है. ऐसे में किसी को हैरान होने की जरूरत नहीं होगी. यह मौजूदा से बहुत अलग नहीं होगा.’
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement