बीएसएनएल का धमाका : यह ऐप डाउनलोड करते ही स्मार्टफोन करेगा लैंडलाइन फोन का काम

बीएसएनएल का धमाका : यह ऐप डाउनलोड करते ही स्मार्टफोन करेगा लैंडलाइन फोन का काम

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  • ऐप मोबाइल फोन को एक तरह से कॉर्डलेस फोन में बदल देगा
  • घर के दायरे में लैंडलाइन नंबर से जुड़ जाएगा स्मार्टफ़ोन
  • कंपनी ने मोबाइल टीवी सेवा 'डिटो टीवी' शुरू की है
नई दिल्ली:

निजी दूरसंचार कंपनियों से कड़ी प्रतिस्पर्धा झेल रही सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी भारत संचार निगम (बीएसएनएल) ने सोमवार को एक ऐप लॉन्च किया. यह ऐप मोबाइल फोन को एक तरह से कॉर्डलेस फोन में बदल देगा और घर के दायरे में लैंडलाइन नंबर से जुड़ जाएगा. आप आसानी से बात कर सकेंगे. इसके लिए आपको अपने लैंडलाइन फोन तक नहीं जाना पड़ेगा. इसके साथ ही कंपनी ने मोबाइल टीवी सेवा 'डिटो टीवी' शुरू की है.

मोबाइल टीवी के लिए ग्राहकों को डिटो टीवी ऐप डाउनलोड करना होगा. इसके लिए मासिक शुल्क 20 रुपये प्रतिमाह होगा. यह सेवा 223 रुपये के डेटा विशेष शुल्क वाउचर के साथ भी होगी. डिटो टीवी एक मोबाइल टीवी सेवा है जिसमें सब्सक्राइबर 80 से अधिक लाइव चैनल देख सकेंगे जिसमें एचडी चैनल भी शामिल हैं. यह सेवा आईओएस और एंड्रायड डिवाइस वाले मोबाइल, टैबलेट के साथ-साथ टीवी या पीसी पर ली जा सकती है.

बीएसएनएल का दावा है कि उसकी नई सीमित फिक्सड मोबाइल टेलीफोन (एफएमटी) सेवा पिछले साल की उसक विवादास्पद एफएमटी से 'अलग' है जिसे उसे रोकना पड़ा था.

बीएसएनएल के चेयरमैन व प्रबंध निदेशक अनुपम श्रीवास्तव ने कहा, "पहले की सेवा भारत व विदेश में रोमिंग में चल रहे ग्राहकों के मोबाइल को उनके लैंडलाइन से जोड़ देती थी और वे उनके जरिए कॉल कर सकते थे लेकिन यह सेवा ग्राहक के आवासीय परिसर तक सीमित रहेगी.’

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

श्रीवास्तव को नहीं लगता कि इस सेवा पर किसी तरह की आपत्ति होगी. इस सेवा के लिए ग्राहक के पास बीएसनएल की लैंडलाइन, मोबाइल व ब्राडबैंड कनेक्टिविटी होनी चाहिए.

बीएसएनएल ने अपने एक वक्तव्य में स्पष्ट किया, "स्मार्टफोन में यह ऐप डाउनलोड करने की जरूरत होगी लेकिन बीएसएनएल ब्रॉडबैंड मॉडम (वाई-फाई) से कनेक्टिविटी के बाद, ग्राहक आउटगोइंग कॉल कर सकेंगे. यह सेवा मोबाइल ऑपरेटर सेवा या मोबाइल हैंडसेट के ग्राहक सिम से किसी भी तरह से लिंक नहीं है." यानी इसके लिए आपके पास बीएसएनएल ब्रॉडबैंड होना चाहिए.