NDTV Khabar

कैबिनेट ने HPCL में सरकार की 51.11% हिस्सेदारी ONGC को बेचने की मंजूरी दी

यह सौदा करीब 30,000 करोड़ रुपये का बैठेगा. ओएनजीसी द्वारा एचपीसीएल में सरकार की 51.11 प्रतिशत हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया जाएगा.

411 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
कैबिनेट ने HPCL में सरकार की 51.11% हिस्सेदारी ONGC को बेचने की मंजूरी दी

ओएनजीसी को एचपीसीएल की 51.11 फीसदी हिस्सेदारी बेची जाएगी

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्रिमंडल ने हिंदुस्तान पेट्रोलियम कारपोरेशन (एचपीसीएल) में सरकार की 51.11 प्रतिशत हिस्सेदारी की बिक्री तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) को करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. एक शीर्ष सरकारी सूत्र ने कहा कि यह सौदा 26,000 करोड़ से 30,000 करोड़ रुपये के बीच बैठेगा. इससे सरकार को चालू वित्त वर्ष में हिस्सेदारी बिक्री से 72,500 करोड़ रुपये जुटाने के लक्ष्य का 40% पूरा करने में मदद मिलेगी.

यह भी पढ़ें
दुनिया की सबसे बड़ी रिफाइनरी बनेगी महाराष्ट्र में, IOC- BPCL-HPCL के बीच हुआ समझौता

समझा जाता है कि पेट्रोलियम क्षेत्र में इस तरह के और सौदे होंगे. इनमें एक सौदा इंडियन ऑयल कारपोरेशन द्वारा ऑयल इंडिया के अधिग्रहण का हो सकता है. इसके अलावा भारत पेट्रोलियम का गैस इकाई गेल में विलय हो सकता है.

वीडियो - ...ताकि कम से कम हो तेल का आयात

सूत्र ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में ओएनजीसी द्वारा एचपीसीएल के अधिग्रहण के प्रस्ताव को सैद्धांतिक मंजूरी दी गई. पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान गुरुवार दोपहर संसद में इस सौदे और अन्य संभावित विलय सौदों के बारे में बयान देंगे.

विलय से पहले एचपीसीएल संभवत: मेंगलूर रिफाइनरी एंड पेट्रोकेमिकल्स (एमआरपीएल) का अधिग्रहण कर सकती है, जिससे ओएनजीसी की सभी रिफाइनिंग परिसंपत्तियां एक इकाई के तहत आ जाएंगी. फिलहाल ओएनजीसी के पास एमआरपीएल की 71.63% हिस्सेदारी है जबकि एचपीसीएल के पास इसकी 16.96% हिस्सेदारी है. एचपीसीएल द्वारा ओएनजीसी की हिस्सेदारी के अधिग्रहण से उसे (ओएनजीसी) बुधवार के बंद भाव के हिसाब से 16,414 करोड़ रुपये मिलेंगे. ओएनजीसी के पास 13,014 करोड़ रुपये की नकदी है. उसके पास आईओसी में अपनी समूची 13.77% या आंशिक हिस्सेदारी बेचने का भी विकल्प है जो करीब 25,000 करोड़ रुपये की बैठेगी.

ओएनजीसी को खुली पेशकश लाने की जरूरत नहीं
एचपीसीएल के अधिग्रहण सौदे में ओएनजीसी को खुली पेशकश लाने की जरूरत नहीं होगी, क्योंकि सरकार की हिस्सेदारी एक दूसरी सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी को स्थानांतरित की जा रही है और इससे स्वामित्व में बदलाव नहीं हो रहा है. एचपीसीएल के आधे से अधिक शेयर ओएनजीसी के हाथ में पहुंचने पर वह ओएनजीसी की अनुषंगी हो जाएगी, लेकिन शेयर बाजार में सूचीबद्ध बनी रहेगी.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement