NDTV Khabar

बैंकों के एटीएम क्यों हो गए खाली, यह है सबसे बड़ा कारण

सूत्रों ने बताया कि यह अभियान तुरंत शुरू हो गया लेकिन देश के कुछ हिस्सों में इसमें देरी हुई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बैंकों के एटीएम क्यों हो गए खाली, यह है सबसे बड़ा कारण

एटीएम से कैश नहीं निकल रहा है.

नई दिल्ली: एटीएम को 200 रुपये के नोट के अनुकूल बनाने में देरी देश के कुछ हिस्सों में नकदी संकट की एक वजह है. सूत्रों ने कहा कि रिजर्व बैंक द्वारा 200 रुपये का नोट पेश किए जाने के बाद एटीएम को इसके अनुकूल बनाने का फैसला किया गया. सूत्रों ने बताया कि यह अभियान तुरंत शुरू हो गया लेकिन देश के कुछ हिस्सों में इसमें देरी हुई.

रिजर्व बैंक ने कहा कि देश के कुछ हिस्सों में नकदी संकट की एक वजह एटीएम को तेजी से भरने में लॉजिस्टिक की समस्या है. साथ ही एटीएम को नए जारी नोट के अनुकूल बनाने का काम भी चल रहा है.

इस बीच, पिछले कुछ दिन से 2,000 रुपये के नोट की छपाई भी रुकी हुई है. आर्थिक मामलों के सचिव एस सी गर्ग ने कहा कि 2,000 के नोट की और आपूर्ति करने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह पहले से ही अत्यधिक आपूर्ति की स्थिति में है.

पढ़ें : देशभर में क्यों हो रही कैश की क़िल्लत? ये हैं 10 वजह

टिप्पणियां
बता दें कि आज लगातार दूसरे दिन भी कई जगहों पर एटीएम ख़ाली पड़े हैं. नो कैश का बोर्ड लगा हुआ है. कई जगह लोग लाइन में खड़े हैं. इस बीच वित्त मंत्रालय का कहना है कि बाज़ार में पर्याप्त से ज़्यादा नक़दी है. अचानक डिमांड की वजह से कुछ राज्यों में कमी है, जिसे जल्द ही दूर कर लिया जाएगा.

वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ला ने कहा कि पैसे की कोई कमी नहीं है. 1.5 लाख करोड़ से ज्‍यादा की करेंसी हमारे पास है. थोड़ी बहुत स्थिति ऐसे होती है कहीं पैसा अधिक हो जाता है कहीं कम हो जाते हैं. वेवजह का डर फैलाया गया है और ये ठीक नहीं है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement