NDTV Khabar

बांग्लादेश से आयात हो रहे सस्ते सिले-बुने कपड़ों ने बढ़ाई देसी कारोबारियों की सिरदर्द

बांग्लादेश से आयात हो रहे सस्ते कपड़ों ने भारत के बाजारों पर सीधा असर छोड़ा है.

7 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
बांग्लादेश से आयात हो रहे सस्ते सिले-बुने कपड़ों ने बढ़ाई देसी कारोबारियों की सिरदर्द

कपड़ा निर्माता अक्षय करण

खास बातें

  1. बांग्लादेश से बढ़ा सिले-बुने कपड़ों का आयात
  2. भारतीय कारोबारियों को सता रहा डर
  3. बांग्लादेशी कपड़े के आयात में 56 फ़ीसदी से ज़्यादा की बढ़ोतरी
नई दिल्ली: बांग्लादेश से आयात हो रहे सस्ते कपड़ों ने भारत के बाजारों पर सीधा असर छोड़ा है. बांग्लादेश से सिले और बुने हुए कपड़ों के आयात में लगातार वृद्धि हो रही है और वृद्धि यहां के कपड़ा कारोबारियों के लिए एक नई चुनौती बन गई है. फरीदाबाद के कपड़ा कारोबारी अक्षय करण के सामने अब एक नई चुनौती है. बांग्लादेश से आयात हो रहे सस्ते कपड़ों से मुक़ाबले की ये चुनौती यहां के अधिकतर कारोबारियों की है. 

भारतीय कपड़ा उद्योग महासंघ के मुताबिक, "इस साल जुलाई से नवंबर के बीच बांग्लादेश से 564 करोड़ से ऊपर का सिर्फ सिला और बुना हुआ कपड़ा भारत आया जबकि इसी अवधि में पिछले साल 380 करोड़ रुपये से ज़्यादा का  सिला और बुना हुआ कपड़ा भारत आया था. यानी बांग्लादेशी सिले और बुने हुए कपड़े के आयात में 56 फ़ीसदी से ज़्यादा की बढ़ोतरी हुई. अब ये बढ़ोत्तरी भारतीय कारोबारियों को डरा रही है.

यह भी पढ़ें - भारत सरकार का  Startup Program देगा आपके कारोबार को नई ऊंचाई
 
कपड़ा निर्माता अक्षय करण कहते हैं, "इसका सीधा असर ये पड़ेगा कि कपड़ा का रिटेलर बांग्लादेशी सामान ज़्यादा बेचेंगे, जिसका सीधा असर हमारे व्यापार पर पड़ेगा. सिर्फ भारतीय उद्योगपति प्रभावित नहीं होंगे, बल्कि भारतीय कपड़ा व्यापार से जुड़े कारीगर और वर्कर भी."

कारोबारियों को लग रहा है कि जैसे चीन से सस्ता माल आकर भारतीय बाज़ार को बिगाड़ता रहा है, वैसे ही बांग्लादेश कपड़ों के बाज़ार में ये नौबत न ला दे. भारतीय कपड़ा उद्योग महासंघ के अध्यक्ष संजय जैन ने एनडीटीवी से कहा "कपड़े की आयात ड्यूटी 29 फीसदी से घटाकर 10 फ़ीसदी करने से संकट बढ़ा है. कपड़े के आयात को लेकर सरकार कपड़े के क्षेत्र में जीएसटी से पहले की व्यवस्था लागू करे.

यह भी पढ़ें - रामविलास पासवान के सख्त निर्देश, GST दरों में बदलाव के बाद नई MRP लगाएं कारोबारी

कपड़ा उद्योग चाहता है कि सरकार अगले बजट में बंग्लादेश से बढ़ते आयात को लेकर कपड़ा उद्योग की चिंताओं को दूर करने के लिए पहल करे. अगर सरकार ने इस मसले को नज़रअंदाज़ किया तो आने वाले दिनों में भारतीय कपड़ा उद्योग पर इसका बुरा असर पड़ेगा. 

VIDEO: बांग्लादेश से बढ़ा सिले-बुने कपड़ों का आयात, भारतीय कारोबारियों को सता रहा डर


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement