NDTV Khabar

नोटबंदी के प्रभाव के बारे में आकलन बढ़ा-चढ़ाकर किया गया : मुख्य सांख्यिकीविद् टीसीए अनंत

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) ने पिछले वित्त वर्ष के लिये बुधवार को राष्ट्रीय लेखा का आंकड़ा जारी किया. इसके अनुसार 2016-17 की चौथी तिमाही में सकल मूल्य वर्धन (जीवीए) वृद्धि घटकर 5.6 पर आ गयी जो एक साल पहले इसी तिमाही में 8.7 प्रतिशत थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नोटबंदी के प्रभाव के बारे में आकलन बढ़ा-चढ़ाकर किया गया : मुख्य सांख्यिकीविद् टीसीए अनंत

नोटबंदी के प्रभाव के बारे में आकलन बढ़ा-चढ़ाकर किया गया : टीसीए अनंत- प्रतीकात्मक फोटो

नयी दिल्ली: मुख्य सांख्यिकीविद् टीसीए अनंत ने गुरुवार को कहा कि नोटबंदी का जीडीपी वृद्धि पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में विश्लेषकों के एक तबके ने जो आकलन किया था, वह बढ़ा-चढ़ाकर किया गया और भ्रामक था.

उन्होंने कहा कि विश्लेषण पहले से बनायी गयी धारणा पर आधारित था. केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) ने पिछले वित्त वर्ष के लिये बुधवार को राष्ट्रीय लेखा का आंकड़ा जारी किया. इसके अनुसार 2016-17 की चौथी तिमाही में सकल मूल्य वर्धन (जीवीए) वृद्धि घटकर 5.6 पर आ गयी जो एक साल पहले इसी तिमाही में 8.7 प्रतिशत थी.

टिप्पणियां
कई अर्थशास्त्रियों और विश्लेषकों ले आर्थिक वृद्धि में गिरावट का कारण नोटबंदी को बताया था। पिछले साल नवंबर में 500 और 1,000 रपये के नोटों को चलन से हटा दिया गया था। इससे 87 प्रतिशत मुद्रा चलन से हट गयी थी।

अनंत ने कहा कि उन्होंने नोटबंदी के अर्थव्यवस्था पर प्रभाव को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया. उन्होंने कहा कि आपको दीर्घकालीन प्रवृत्ति को देखनी होती है और केवल तिमाही-दर-तिमाही आंकड़ों को नहीं. उन्होंने कहा, ‘कितना बढ़ा-चढ़ाकर कहा गया, मैं यह नहीं कहूंगा. मेरा कहना यह है कि चीजों को इतना सरल करके मत देखिये. पिछले साल यह था या अक्तूबर में यह इतना था और अब इतना है. इसीलिए नोटबंदी से यह गिरावट आयी है.’
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement