NDTV Khabar

भारत में ट्रेन की स्पीड बढ़ाने के लिए मदद दे सकता है चीन

नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा, "हमने बेंगलुरु-चेन्नई रेल गलियारे पर रेल गाड़ियों की गति बढ़ाने की परियोजना चीन को देने की पेशकश की है."

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भारत में ट्रेन की स्पीड बढ़ाने के लिए मदद दे सकता है चीन

प्रतीकात्मक फोटो

बीजिंग: भारत ने बेंगलुरु-चेन्नई रेल गलियारे पर रेलगाड़ियों की गति बढ़ाने के लिए लिए चीन से मदद मांगी है. साथ ही आगरा और झांसी रेलवे स्टेशनों के पुनर्विकास में भी चीन से सहयोग लेने की बात चल रही है. एक वरिष्ठ भारतीय अधिकारी ने जानकारी दी. दोनों देशों के बीच बीजिगं में आयोजित सामरिक आर्थिक वार्ता (एसईडी) में इस आशय के प्रस्ताव रखे गए. नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा, "हमने बेंगलुरु-चेन्नई रेल गलियारे पर रेल गाड़ियों की गति बढ़ाने की परियोजना चीन को देने की पेशकश की है."

एसईडी की बैठक में कुमार और चीन के राष्ट्रीय विकास एवं सुधार आयोग (एनडीआरसी) के चेयरमैन ही लीफेंग की अध्यक्षता में दोनों देशों के प्रतिनिधिमंडल के बीच वार्ता हुई. इसमें उक्त गलियारे पर गाड़ियों की गति को बढ़ाकर 150 किलोमीटर प्रति घंटे तक करने का प्रस्ताव रखा गया है.

अधिकारी ने कहा कि इससे पहले भारत ने आगरा और झांसी रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास के लिए भी चीन के सामने प्रस्ताव रखा था जिसे कल की बैठक में दोहराया गया. प्रस्तावों पर विचार करने के बाद चीन अपनी प्रतिक्रिया देगा.

टिप्पणियां
कुमार ने कहा कि चीन को बताया गया है कि रेलवे स्टेशनों के विकास की बड़ी योजना है, इसमें 600 स्टेशन शामिल हो सकते हैं. वे इनमें से किसी के लिए भी बोली लगा सकते हैं. उन्होंने कहा कि वार्ता के इस दौर में चीन के सहयोग से भारत में उच्च गति ट्रेनों के निर्माण को लेकर कोई बातचीत नहीं हुई.

भारत में उच्च गति रेल गलियारे विकसित करने के चीन ने इच्छा जाहिर की है और नई दिल्ली और चेन्नई उच्च गति रेल गलियारे के लिए व्यवहार्यता अध्ययन शुरू किया है. मुंबई-अहमदाबाद उच्चगति रेलगार्ग का ठेका जापान को मिला है. यह भारत का पहला बुलेट ट्रेन गलियारा होगा. चीन में कुल 22000 किलो मीटर के उच्च गति रेल गलियारे हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement