NDTV Khabar

कच्चे तेल की कीमतें आधी, लेकिन पेट्रोल की कीमतें 2014 के बाद सबसे ऊंची, क्या है वजह?

देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतें साल 2014 के बाद सबसे ऊंची स्तर पर पहुंच गई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कच्चे तेल की कीमतें आधी, लेकिन पेट्रोल की कीमतें 2014 के बाद सबसे ऊंची, क्या है वजह?

देश में पेट्रोल, डीजल की कीमतें तीन साल के ऊंचे स्तर पर पहुंच गई है

खास बातें

  1. पेट्रोल, डीजल के दाम 2014 के बाद सबसे ऊंचे स्तर पर
  2. तीन सालों में कच्चे तेल के दाम 53 फीसदी कम हुए हैं
  3. मुंबई में बुधवार को करीब 80 रुपये लीटर पहुंच गया पेट्रोल का दाम
नई दिल्ली: पेट्रोल और डीजल की कीमतें साल 2014 के बाद सबसे ऊंची स्तर पर पहुंच गई है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें तीन साल पहले के मुकाबले आधी रह गई है, लेकिन बावजूद इसके देश में पेट्रोल, डीजल की कीमत लगातार बढ़ती जा रही है. मुंबई में तो पेट्रोल के दाम बुधवार को करीब 80 रुपये प्रति लीटर पहुंच गया. मोदी सरकार के आने के बाद से अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम 53 फीसदी तक कम हो गए हैं, लेकिन पेट्रोल डीजल के दाम घटने की बजाय बेतहाशा बढ़ गए हैं. इसके पीछे असली वजह यह है कि तीन सालों के दौरान सरकार ने पेट्रोल, डीजल पर एक्साइज ड्यूटी कई गुना बढ़ा दी है. मोटे अनुमान के अनुसार पेट्रोल पर ड्यूटी 10 रुपये लीटर से बढ़कर करीब 22 रुपये हो गई है.

यह भी पढ़ें: क्या बंद हो जाएंगी पेट्रोल-डीजल की कारें? गडकरी की चेतावनी से मिले ये पांच संकेत

SMC ग्लोबल के रिसर्च हेड डॉ रवि सिंह ने बताया कि 1 जुलाई, 2014 को कच्चे तेल की कीमत 112 डॉलर प्रति बैरल थी, जबकि उस दिन देश में पेट्रोल का दाम 73.60 प्रति लीटर था. 1 अगस्त, 2014 को कच्चे तेल में नरमी आई और इसका 106 डॉलर प्रति बैरल हो गया. उस दिन देश में डीजल की कीमत 58.40 रुपये प्रति लीटर थी. अगर मौजूदा साल की बात करें तो बुधवार यानी 13 सितंबर, 2017 को कच्चे तेल का भाव 54 डॉलर प्रति बैरल है.

यह भी पढ़ें : पेट्रोल, डीजल की कीमतों में रोजाना परिवर्तन की व्यवस्था जारी रहेगी : धर्मेंद्र प्रधान

जुलाई से पेट्रोल के दाम लगातार बढ़ रहे हैं. इस समय पेट्रोल की दर तीन साल के अपने उच्च स्तर पर है. पेट्रोल कीमतों में प्रतिदिन मामूली संशोधन होता है. दिल्ली में 16 जून को पेट्रोल का दाम 65.48 रुपये लीटर था, जो 2 जुलाई को घटकर 63.06 रुपये लीटर पर आ गया था. हालांकि उसके बाद से सिर्फ गिनती के दिन छोड़कर प्रतिदिन पेट्रोल की कीमतों में बढ़ोतरी हुई है. इन मौकों पर पेट्रोल का दाम 2 से 9 पैसे लीटर घटा था.

यह भी पढ़ें: भारत में बिकती हैं ये इलेक्ट्रिक और हाइब्रिड कारें, आप भी आजमा सकते हैं

उधर, नए आंकड़ों के अनुसार देश में ईंधन की मांग में कमी आई है. अगस्त महीने में इसमें 6.1 प्रतिशत गिरावट आई है. देश के कुछ हिस्सों में बाढ़ के कारण डीजल और पेट्रोल की खपत प्रभावित होने से ईंधन की मांग कम हुई है. पेट्रोलियम मंत्रालय के अनुसार देश में सर्वाधिक खपत वाला ईंधन डीजल की मांग 3.7 प्रतिशत घटकर 59 लाख टन रही, जबकि पेट्रोल की बिक्री 0.8 प्रतिशत घटकर 21.9 लाख टन थी.

VIDEO : सस्ते कच्चे तेल का फायदा आम लोगों को क्यों नहीं?
वहीं एलपीजी की बिक्री 11.8 प्रतिशत बढ़कर 20.6 लाख टन रही, जबकि केरोसीन का उपयोग 41 प्रतिशत घटकर 2,92,000 टन रहा.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement