NDTV Khabar

चालू खाते का घाटा चौथी तिमाही में बढ़कर 3.4 अरब डॉलर

रिजर्व बैंक ने कहा, सालाना आधार पर चालू खाते का घाटा बढ़ना देश के ऊंचे व्यापार घाटे को दिखाता है, जो 29.7 अरब डॉलर रहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
चालू खाते का घाटा चौथी तिमाही में बढ़कर 3.4 अरब डॉलर

प्रतीकात्मक चित्र

मुंबई:

चालू खाते का घाटा वित्त वर्ष 2016-17 की चौथी तिमाही में बढ़कर 3.4 अरब डॉलर रहा है, जो देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 0.6 प्रतिशत के बराबर है. इससे पिछले वित्त वर्ष 2015-16 की इसी अवधि में यह 0.3 अरब डॉलर था. इस संबंध में भारतीय रिजर्व बैंक ने गुरुवार को आंकड़े जारी किए. हालांकि पिछली तिमाही के आधार पर इसमें गिरावट देखी गई है. वित्त वर्ष 2016-17 की तीसरी तिमाही में यह आठ अरब डॉलर था. चालू खाते के घाटे से आशय विदेशी मुद्रा की आय और व्यय में अंतर है.

रिजर्व बैंक ने कहा, सालाना आधार पर चालू खाते का घाटा बढ़ना देश के ऊंचे व्यापार घाटे को दिखाता है, जो 29.7 अरब डॉलर रहा है. पूरे वित्त वर्ष 2016-17 के लिए भुगतान संतुलन 21.6 अरब डॉलर रहा, जबकि चौथी तिमाही में यह 7.31 अरब डॉलर रहा है.

टिप्पणियां

वित्त वर्ष 2016-17 के लिए चालू खाते के घाटे में गिरावट आई है, जो जीडीपी का 0.7 प्रतिशत रहा है, जबकि 2015-16 में जीडीपी का 1.1 प्रतिशत था. आलोच्य अवधि में कुल व्यापार घाटा घटकर 112.4 अरब डॉलर रहा है, जो इससे पिछले वित्त वर्ष 2015-16 में 130.1 अरब डॉलर था.


(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों (Election News in Hindi), LIVE अपडेट तथा इलेक्शन रिजल्ट (Election Results) के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement