NDTV Khabar

सीमा शुल्क विभाग ने जारी किया अलर्ट, सामानों की निकासी के लिए रुपया मांगने वाले फोन कॉल से रहें सावधान

धोखाधड़ी की नवीनतम कार्यप्रणाली के बारे में सीमा शुल्क विभाग को पूरे देश भर से कई शिकायतें मिली हैं जिसके बाद एहतियातन एक अलर्ट जारी किया गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सीमा शुल्क विभाग ने जारी किया अलर्ट, सामानों की निकासी के लिए रुपया मांगने वाले फोन कॉल से रहें सावधान

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली: अगर आपके पास कोई फोन या ईमेल आता है जिसमें यह दावा किया जाता है कि सीमा शुल्क अधिकारियों ने उपहार या पार्सल की निकासी रोक दी है और आपको आयात शुल्क के लिए एक निश्चित राशि देनी होगी तो आप सावधान हो जाईये नहीं तो आप ठगी के शिकार हो सकते हैं. जी हां, धोखाधड़ी की नवीनतम कार्यप्रणाली के बारे में सीमा शुल्क विभाग को पूरे देश भर से कई शिकायतें मिली हैं जिसके बाद एहतियातन एक अलर्ट जारी किया गया है.

एयर इंडिया की फ्लाइट से उतरे यात्री के पास से 1.1 करोड़ रुपये का सोना जब्त

टिप्पणियां
दिल्ली सीमा शुल्क विभाग ने एक सार्वजनिक नोटिस में कहा है कि कई ऐसे मामलों की सूचना सामने आयी हैं जिसमें कई लोगों को टेलीफोन कॉल, ई मेल और डाक से चिट्ठी लिख कर किसी बैंक खाते में रूपया जमा कराने को कहा जाता है और दावा किया जाता है कि सीमा शुल्क विभाग के अधिकारियों ने उपहार, पार्सल अन्य सामानों की निकास को सीमा शुल्क, जुर्माने की एक निश्चित राशि देने तक रोक दिया है. साथ ही एक बैंक खाता का नंबर भी दिया गया रहता है जहां पर रूपया जमा करना होता है.

वीडियो : साईं मंदिर में करोड़ों का चढ़ावा

इसमें बताया गया है कि इसी तरह का एक अन्य कार्यप्रणाली काम कर रहा है जिसमें ई-मेल भेज कर बताया जाता है कि आपने एक पुरस्कार या पार्सल जीता है और आपको धन जमा करने की जरूरत है. हाल में जारी नोटिस में बताया गया है, ‘‘इस तरह की सभी फोन कॉल/मेल फर्जी है जिसका उद्देश्य लोगों को चूना लगाना है. सामान्य जनता को इस प्रकार सूचित किया जाता है और ऐसे फर्जी कॉल / मेलों का जवाब नहीं दें क्योंकि व्यक्तिगत बैंक खातों में रूपया जमा करने के लिए सीमा शुल्क अधिकारी इस तरह का टेलीफोन कॉल/ मेल नहीं करते हैं.’’


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement