NDTV Khabar

एयर इंडिया में वित्तीय जान फूंकने के लिए हरसंभव कोशिशें जारी : CMD अश्विनी लोहानी

एयर इंडिया प्रमुख अश्विनी लोहानी ने कहा, 'हमारी विस्तार परियोजनाओं में कहीं कोई रुकावट नहीं है. आने वाले कुछ महीनों में चार बड़े जहाज और 25 छोटे जहाज हमारे बेड़े में शामिल होने वाले हैं.'

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एयर इंडिया में वित्तीय जान फूंकने के लिए हरसंभव कोशिशें जारी : CMD अश्विनी लोहानी

प्रतीकात्मक चित्र

खास बातें

  1. 'एयर इंडिया के बेड़े में 4 बड़े जहाज, 25 छोटे जहाज शामिल होने वाले हैं'
  2. '300 से 400 पायलट, 600 से 700 केबिन क्रू की भर्ती की योजना है'
  3. 'दिल्ली से वाशिंगटन, स्टॉकहोम और कोपेनहेगेन के लिए भी उड़ानें होंगी शुरू'
इंदौर: लगभग 50,000 करोड़ रुपये के भारी कर्ज बोझ से दबी एयर इंडिया के निजीकरण को लेकर जारी चर्चाओं के बीच इस सरकारी विमानन सेवा के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक (सीएमडी) अश्विनी लोहानी ने शनिवार को कहा कि कंपनी में वित्तीय जान फूंकने के लिए हरसंभव कदम उठाए जा रहे हैं. उन्होंने यह दावा भी किया कि इन चर्चाओं से एयर इंडिया की कोई भी विस्तार परियोजना प्रभावित नहीं हुई है.

इंदौर के भारतीय प्रबंध संस्थान (आईआईएम-आई) के एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने आए लोहानी ने संवाददाताओं से कहा, 'हम वह सब कर रहे हैं, जो किसी संस्थान में वित्तीय जान डालने के लिए जरूरी है. हम देश-विदेश में नई उड़ानें शुरू करने जा रहे हैं और हमारी भर्ती प्रक्रिया जारी है, लेकिन समझने वाली बात यह है कि हमें विरासत में कर्ज का भारी बोझ और कमियां मिलीं हैं. इसके अलावा, दोनों सरकारी एयरलाइनों (एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस) के विलय से जुड़े भी कई मसले हैं.' बहरहाल, उन्होंने एयर इंडिया के निजीकरण और टाटा समूह द्वारा इस सरकारी कंपनी की हिस्सेदारी खरीदे जाने की संभावना को लेकर जारी चर्चाओं से जुड़े किसी भी सवाल का जवाब देने से साफ इनकार कर दिया.

उन्होंने कहा, 'मैं एयर इंडिया के विनिवेश के मामले में कुछ भी टिप्पणी नहीं करूंगा. यह सरकार का विषय है, मेरा नहीं.' उन्होंने एक प्रश्न पर इस बात से साफ इनकार किया कि एयर इंडिया के निजीकरण की चर्चा शुरू होने के बाद इसकी विस्तार परियोजनाएं प्रभावित हो रही हैं.

एयर इंडिया प्रमुख ने कहा, 'हमारी विस्तार परियोजनाओं में कहीं कोई रुकावट नहीं है. आने वाले कुछ महीनों में चार बड़े जहाज और 25 छोटे जहाज हमारे बेड़े में शामिल होने वाले हैं. साल-दर-साल हमारी स्थिति संभल रही है. हमारे बारे में नकारात्मक खबरें छपनी भी कम हुई हैं. हम लगातार विस्तार कर रहे हैं.' उन्होंने बताया कि आने वाले महीनों में एयर इंडिया दिल्ली से वाशिंगटन, स्टॉकहोम और कोपेनहेगेन के लिए उड़ानें शुरू करेगी. इसके अलावा, भारत की यह सरकारी विमान कंपनी लॉस एंजिलिस और अफ्रीकी देशों के कुछ शहरों के लिए भी उड़ानें शुरू करना चाहती है.

टिप्पणियां
लोहानी ने बताया कि मानव संसाधन क्षमता बढ़ाने के लिए एयर इंडिया 300 से 400 पायलटों और 600 से 700 केबिन क्रू की भर्ती की योजना पर आगे बढ़ रही है. उन्होंने बताया कि फ्रांस की विमान निर्माता कंपनी एटीआर के 72-72 सीटों के 10 छोटे विमान एयर इंडिया के बेड़े में शामिल किए जाएंगे, जिनका इस्तेमाल भारत के छोटे शहरों में क्षेत्रीय हवाई संपर्क बढ़ाने में किया जाएगा. लोहानी ने यह भी बताया कि एयर इंडिया ने इंदौर से शारजाह के लिए उड़ान शुरू करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय से मंजूरी मांगी है.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement