NDTV Khabar

पीएफ योगदान घटाकर 10 फीसदी करने का प्रस्ताव खारिज, नहीं बढ़ेगी आपकी टेक होम सैलरी

सरकार टेक होम सैलरी बढ़ाए जाने के तमाम निवेदनों के बाद इस बारे में विचार कर रही थी. अभी कर्मचारी और नियोक्ता मूल वेतन का 12 प्रतिशत ईपीएफ में योगदान करते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पीएफ योगदान घटाकर 10 फीसदी करने का प्रस्ताव खारिज, नहीं बढ़ेगी आपकी टेक होम सैलरी

ईपीएफओ के केंद्रीय न्यासी बोर्ड ने पीएफ योगदान घटाकर 10 फीसदी करने का प्रस्ताव खारिज कर दिया है

खास बातें

  1. ईपीएफओ की शनिवार को पुणे में बैठक हुई
  2. श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय भी इस बैठक में शामिल हुए
  3. सीबीटी ने शेयर बाजार में निवेश की सीमा बढ़ाकर 15% करने का फैसला किया
पुणे: कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के केंद्रीय न्यासी बोर्ड (सीबीटी) ने कर्मचारियों और नियोक्ताओं के लिए अनिवार्य योगदान घटाकर 10 प्रतिशत करने के प्रस्ताव को शनिवार को खारिज कर दिया. अभी कर्मचारी और नियोक्ता मूल वेतन का 12 प्रतिशत ईपीएफ में योगदान करते हैं.

टिप्पणियां
सरकार टेक होम सैलरी बढ़ाए जाने के तमाम निवेदनों के बाद इस बारे में विचार कर रही थी. ईपीएफओ की शनिवार को पुणे में बैठक हुई. बैठक के एजेंडा में कर्मचारियों और नियोक्ताओं के लिए अनिवार्य योगदान घटाकर 10 प्रतिशत किए जाने का प्रस्ताव था. श्रम सचिव एम. सत्यवती ने कहा कि नियोक्ता, कर्मचारियों और सरकार के प्रतिनिधियों ने इस पर आपत्ति जताई और उनका मानना था कि इसे 12 प्रतिशत बने रहना चाहिए.

श्रम मंत्री बंडारू दत्तात्रेय भी इस बैठक में शामिल हुए. उन्होंने संवाददाताओं को बताया कि बैठक में सीबीटी ने शेयर बाजार में निवेश की सीमा मौजूदा 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 15 प्रतिशत करने का निर्णय किया. ईपीएफओ की निवेश योग्य जमाएं एक लाख करोड़ रुपये सालाना है. एक रिपोर्ट के अनुसार ईपीएफओ ने अप्रैल, 2017 के आखिर तक बाजार सम्बद्ध उत्पादों में 21,050 करोड़ रुपये का निवेश किया.
(इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement