NDTV Khabar

वाराणसी में इंडिगो के दफ्तर पर EPFO का छापा, जांच जारी

वाराणसी में जांच क्षेत्रीय आयुक्त उपेंद्र प्रताप सिंह की देखरेख में की गई. बताया कि इस कार्रवाई में कुल 19 अधिकारियों को लगाया गया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
वाराणसी में इंडिगो के दफ्तर पर EPFO का छापा, जांच जारी

कार्यालय दर्शाने के लिए प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  1. इंडिगो के कर्मचारी बनारस में हड़ताल पर गए
  2. बनारस और दिल्ली में ईपीएफओ ने छापा मारा
  3. अभी जांच जारी है.
वाराणसी: वाराणसी के लाल बहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर इंडिगो एयरलाइंस के 56 कर्मचारी अपनी विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल पर चले गये थे. इस खबर के बाद बुधवार को ईपीएफओ कार्यालय बनारस ने इंडिगो के कार्यालय पर छापा मारा. जानकारी के अनुसार दोनों ही स्थानों पर अभी जांच जारी है. वाराणसी में जांच क्षेत्रीय आयुक्त उपेंद्र प्रताप सिंह की देखरेख में की गई. बताया कि इस कार्रवाई में कुल 19 अधिकारियों को लगाया गया था. इस में 11 अधिकारी वाराणसी में लगाए गए हैं जबकि दिल्ली में 8 अधिकारियों को लगाया गया है. 

टिप्पणियां
वहीं, दिल्ली में भी ईपीएफओ के अधिकारियों ने एयरलाइंस को कर्मचारियों की आपूर्ति करने वाली कंपनी जीवी सर्विसेस प्राइवेट लिमिटेड के कार्यालय पर भी छापा मारा. दिल्ली में इस कार्रवाई का नेतृत्व दिल्ली के क्षेत्रीय आयुक्त उत्तम प्रकाश ने किया.
 
indigo employees strike 650

बता दें कि बनारस हवाई अड्डे के निदेशक अनिल कुमार राय ने 4 अप्रैल को बताया था कि इंडिगो एयरलाइंस के 56 कर्मचारी बिना किसी पूर्व सूचना के अपनी विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल पर चले गए. उन्होंने कहा था कि यदि कर्मचारी जल्द ही अपने काम पर वापस नहीं लौटते तो उनके खिलाफ क़ानूनी कार्रवाई की जायेगी. साथ ही राय ने कहा था कि कर्मचारियों को यह भी स्पष्ट करना होगा कि वे 7 दिन पहले सूचित किये बिना कैसे हड़ताल पर चले गये.
 
indigo employees strike 650

राय ने बताया था कि एक दिन पहले ही कर्मचारियों और एयरलाइंस प्रबंधन के बीच वार्ता में कर्मचारियों की समस्याओं का समाधान कर दिया गया था और कर्मचारी उस पर तैयार हो गये थे. उन्होंने कहा की यदि जल्द ही कर्मचारी काम पर वापस नहीं लौटते तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

इंडिगो एयरलाइंस के हड़ताल पर गये कर्मचारियों की मांग थी कि वे समय पर वेतन मिलने को लेकर लिखित आश्वासन चाहते हैं और जब तक उन्हें लिखित आश्वासन नहीं मिलेगा तब तक वे वापस काम पर नहीं जायेंगे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement