हवाई यात्रा के लिए जल्द ही डिजिटल पहचान जरूरी होगी, वरना नहीं कर पाएंगे टिकट बुकिंग

अगले तीन से चार महीनों में हवाई यात्रियों को टिकट बुकिंग के समय आधार, पैन या पासपोर्ट संख्या जैसी डिजिटल पहचान जानकारियां साझा करना अनिवार्य हो जाएगा.

हवाई यात्रा के लिए जल्द ही डिजिटल पहचान जरूरी होगी, वरना नहीं कर पाएंगे टिकट बुकिंग

हवाई यात्रा के लिए जल्द ही डिजिटल पहचान जरूरी होगी, वरना नहीं कर पाएंगे टिकट बुकिंग- प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:

अगले तीन से चार महीनों में हवाई यात्रियों को टिकट बुकिंग के समय आधार, पैन या पासपोर्ट संख्या जैसी डिजिटल पहचान जानकारियां साझा करना अनिवार्य हो जाएगा. ऐसा हवाईअड्डों पर यात्रा को कागज रहित और सुगम बनाने के लिए किया जाएगा.

नागर विमानन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने कहा कि सरकार ने एक तकनीकी समिति गठित की है जो 30 दिन के भीतर एक श्वेत पत्र तैयार करेगी. सिन्हा ने कहा, ‘विशिष्ट पहचान सुनिश्चित करने के लिए बहुत से रास्ते हैं. स्पष्ट तौर पर इसके लिए आधार संख्या के माध्यम से पहचान सबसे उचित तरीका है और अन्य तरीकों में पैन संख्या या पासपोर्ट संख्या शामिल हैं.’

इस विकल्प को अपनाने वाले यात्रियों को कागज रहित और बाधा रहित यात्रा अनुभव का ‘फायदा’ होगा. सिन्हा ने स्पष्ट करते हुए कहा कि विशिष्ट पहचान पुष्टि के साथ एक बार टिकट बुक करने वाले यात्रियों की डिजिटल जानकारी और पीएनआर उनके डिजिटल बोर्डिंग पास की तरह काम करेगी.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उन्होंने कहा कि जो आधार के माध्यम से टिकट बुक कराएंगे उन्हें हवाईअड्डों पर सिर्फ आंखों या उंगली का स्कैन करना होगा और जो लोग आधार के अलावा अन्य वैकल्पिक दस्तावेज उपलब्ध कराएंगे उन्हें उनके मोबाइल पर एक क्यूआर कोड भेजा जाएगा जो हवाईअड्डों पर स्कैन किया जाएगा.

हालांकि यात्रियों के पास डिजिटल प्रणाली के अलावा भी बोर्डिंग पास एकत्रित करने का विकल्प खुला रहेगा लेकिन वह बाधा रहित यात्रा का लाभ उठाने से वंचित रह जाएंगे. (न्यूज एजेंसी भाषा से इनपुट)