NDTV Khabar

रेलवे ने बनाया ऐसा नियम, जो आपकी नींद उड़ा कर रख देगा...

रेलवे बोर्ड की ओर से जारी सर्कुलर के मुताबिक आरक्षित कोचों के यात्री अब रात 10 बजे से लेकर सुबह छह बजे तक ही सो सकते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
रेलवे ने बनाया ऐसा नियम, जो आपकी नींद उड़ा कर रख देगा...

रेलवे ने यात्रियों के सोने के समय में एक घंटे की कटौती की .. (प्रतीकात्मक फोटो)

खास बातें

  1. रेलवे ने सोने के आधिकारिक समय में एक घंटे की कटौती कर दी है.
  2. अब रात 10 बजे से लेकर सुबह छह बजे तक ही सो सकते हैं
  3. जारी सर्कुलर के मुताबिक आरक्षित कोचों में लागू होगा नियम
नई दिल्ली:

भारतीय रेल में सफर करने वाले ध्यान दें. रेलवे ने हाल ही में जो नियम बनाया है वह आपकी नींद उड़ा सकता है. रेल में सफर करने के दौरान सोने को लेकर आपने कई बार झगड़े होते देखे होंगे, इस झगड़े को कम करने के लिए रेलवे ने सोने के आधिकारिक समय में एक घंटे की कटौती कर दी है.

पढ़ें- बुलेट ट्रेन का यह वीडियो आपके होश उड़ा देगा...ऐसे बनेगा ट्रैक और ऐसे दौड़ेगी अपनी सुपर-रेल...

रेलवे बोर्ड की ओर से जारी सर्कुलर के मुताबिक आरक्षित कोचों के यात्री अब रात 10 बजे से लेकर सुबह छह बजे तक ही सो सकते हैं, ताकि अन्य लोगों को सीट पर बाकी बचे घंटों में बैठने का मौका मिले. इससे पहले सोने का आधिकारिक समय रात नौ बजे से सुबह छह बजे तक था.

पढ़ें- अब ट्रेनों के नाम 'अग्निगर्भा एक्सप्रेस' या 'नील कुसुम एक्सप्रेस' जैसे होंगे...


बाकी बचे समय में दूसरे आरक्षित यात्री सीट पर बैठ सकते हैं
31 अगस्त को जारी सर्कुलर में कहा गया है, “आरक्षित कोचों में सोने की सुविधा रात में 10 बजे से लेकर सुबह छह बजे तक है और बाकी बचे समय में दूसरे आरक्षित यात्री इस सीट पर बैठ सकते हैं.” सर्कुलर में हालांकि कुछ निश्चित यात्रियों को छूट दी गई है.

इसमें कहा गया है, “यात्रियों से बीमार, दिव्यांग और गर्भवती महिला यात्रियों के मामले में सहयोग का आग्रह किया गया है जिससे अगर वे चाहें तो अनुमति वाले समय से ज्यादा चाहें तो सो सकें.” इस नए प्रावधान ने भारतीय रेलवे वाणिज्यिक नियमावली, खंड एक के पैराग्राफ 652 को हटा दिया है. इससे पहले इस प्रावधान के अनुसार यात्री रात के नौ बजे से लेकर सुबह छह बजे तक सो सकते थे.

सोने की सुविधा वाले सभी आरक्षित कोचों में ही लागू
मंत्रालय के प्रवक्ता अनिल सक्सेना ने कहा, “हमें सोने के प्रबंध को लेकर यात्रियों की परेशानी के बारे में अधिकारियों से फीडबैक मिला था. हमारे पास पहले ही इसके लिए एक नियम है. हालांकि हम इसे स्पष्ट कर देना चाहते थे और सुनिश्चित करना चाहते थे कि इसका पालन हो.” उन्होंने कहा कि यह प्रावधान शयन सुविधा वाले सभी आरक्षित कोचों में लागू होगा.

वहीं एक अन्य रेलवे अधिकारी ने कहा कि सोने के समय में एक घंटे की कटौती इसलिए की गई क्योंकि कुछ यात्री ट्रेन में चढ़ने के साथ ही अपनी सीट पर सो जाते थे, चाहे वह दिन हो या रात. इससे ऊपर या बीच की सीट के यात्रियों को असुविधा होती थी.

टिप्पणियां


मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि इस नए निर्देश से ट्रैवलिंग टिकट एग्जामिनर (टीटीई) को भी अनुमति वाले समय से अधिक सोने से संबंधित विवादों को सुलझाने में आसानी होगी.

इनपुट- भाषा


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों (Election News in Hindi), LIVE अपडेट तथा इलेक्शन रिजल्ट (Election Results) के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement