NDTV Khabar

सार्वजनिक क्षेत्र की दो साधारण बीमा कंपनियों के IPO से सरकारी खजाने में आएंगे 15,000 करोड़ रुपये

पांच सार्वजनिक साधारण बीमा कंपनियों में से दो न्यू इंडिया एश्योरेंस (एनआईए) तथा जीआईसी-री पूंजी बाजार में उतरने की तैयारी कर रही हैं.

2 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
सार्वजनिक क्षेत्र की दो साधारण बीमा कंपनियों के IPO से सरकारी खजाने में आएंगे 15,000 करोड़ रुपये

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली: सार्वजनिक क्षेत्र की दो साधारण बीमा कंपनियों के आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) से सरकार करीब 15,000 करोड़ रुपये जुटा सकती है. पांच सार्वजनिक साधारण बीमा कंपनियों में से दो न्यू इंडिया एश्योरेंस (एनआईए) तथा जीआईसी-री अगले कुछ सप्ताह में पूंजी बाजार में उतरने की तैयारी कर रही हैं. सरकार ने चालू वित्त वर्ष में बीमा कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी के विनिवेश से 11,000 करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है. सूत्रों ने कहा कि मौजूदा बाजार परिस्थितियों में सरकार इन दो कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी के विनिवेश से आसानी से 15,000 करोड़ रुपये तक जुटा सकती है.

यह भी पढ़ें : 3 बीमा कंपनियों ने IPO के लिए कागजात दाखिल किए, 20,000 करोड़ रुपये जुटाने की उम्मीद

यह आईपीओ सरकार की चार सार्वजनिक क्षेत्र की गैर जीवन बीमा कंपनियों तथा राष्ट्रीय पुनर्बीमा कंपनी को सूचीबद्ध कराने की योजना का हिस्सा है. इन कंपनियों की सूचीबद्धता से सरकार को चालू वित्त वर्ष में 72,500 करोड़ रुपये का विनिवेश लक्ष्य हासिल करने में मदद मिलेगी. जीआईसी-री के मामले में सरकार 10.75 करोड़ शेयरों की बिक्री करेगी, जबकि जीआईसी-री आईपीओ मार्ग से खुद 1.7 करोड़ शेयरों की पेशकश करेगी. इस तरह कंपनी के 12.4 करोड़ शेयरों की बिक्री के लिए पेशकश की जाएगी, जो कंपनी की निर्गम बाद शेयर पूंजी के 14.22 प्रतिशत के बराबर है.

VIDEO : शेयर बाजार में निवेश के लिए जरूरी जानकारी
जहां तक न्यू इंडिया एश्योरेंस का मामला है सार्वजनिक क्षेत्र की सबसे बड़ी साधारण बीमा कंपनी में सरकार 9.6 करोड़ शेयर बेचेगी. कंपनी आईपीओ के जरिये खुद 2.4 करोड़ शेयर बिक्री के लिए रखेगी.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement