आधी रात को घंटा बजेगा और जीएसटी हो जाएगा लागू : 30 जून को इस तरह संसद में होगी ऐतिहासिक शुरुआत

नई अप्रत्यक्ष कर प्रणाली की शुरुआत 30 जून की आधी रात को संसद के ऐतिहासिक केंद्रीय कक्ष में होगी जहां 15 अगस्त 1947 की आधी रात को तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने ऐतिहासिक भाषण -tryst with destiny- दिया था.

आधी रात को घंटा बजेगा और जीएसटी हो जाएगा लागू : 30 जून को इस तरह संसद में होगी ऐतिहासिक शुरुआत

आधी रात को घंटा बजेगा और जीएसटी हो जाएगा लागू ... (प्रतीकात्मक फोटो)

खास बातें

  • GST की शुरुआत 30 जून आधी रात को संसद के ऐतिहासिक केंद्रीय कक्ष में होगी
  • संभवत: 30 जून को रात 11 बजे शुरू होगा कार्यक्रम और मध्यरात्रि तक चलेगा
  • आधी रात को घंटा बजेगा जो यह रेखांकित करेगा जीएसटी आ गया है
नई दिल्ली:

सरकार स्वतंत्र भारत के सबसे बड़े कर सुधार कहे जा रहे जीएसटी की शुरुआत देश की आजादी की उद्घोषणा के कार्यक्रम की तर्ज पर करने जा रही है. इस नई अप्रत्यक्ष कर प्रणाली की शुरुआत 30 जून की आधी रात को संसद के ऐतिहासिक केंद्रीय कक्ष में होगी जहां 15 अगस्त 1947 की आधी रात को तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने ऐतिहासिक भाषण -tryst with destiny- दिया था.

सरकार संभवत: पहली बार नई कराधान प्रणाली शुरू करने के लिये केंद्रीय कक्ष का उपयोग करेगी. नई अप्रत्यक्ष कर प्रणाली 2,000 अरब डॉलर से अधिक अर्थव्यवस्था को नया रूप देगी. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि जीएसटी लागू होने की पूर्व संध्या पर कार्यक्रम संभवत: 30 जून को रात 11 बजे शुरू होगा और मध्यरात्रि तक चलेगा. एक जुलाई से जीएसटी लागू होना है. आधी रात को घंटा बजेगा जो यह रेखांकित करेगा जीएसटी आ गया है.

Newsbeep

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कार्यक्रम में मुख्य वक्ता होंगे जहां राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भी आमंत्रित किया जाएगा. पूर्व संप्रग सरकार में मुखर्जी जब वित्त मंत्री थे, उन्होंने जीएसटी विधेयक को आगे बढ़ाया था. वहां पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी मौजूद होंगे. इसके अलावा पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा भी केंद्रीय कक्ष में मौजूद रहेंगे. सूत्रों ने कहा कि सभी राज्यों के सीएम को भी बुलाया जाएगा क्योंकि जीएसटी राजकोषीय संघवाद की दिशा में अप्रत्याशित मुहिम को प्रतिबिंबित करता है. जीएसटी परिषद के सदस्य अतिथि होंगे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


केंद्र एवं राज्य सरकारों को एक साथ लाने वाली जीएसटी परिषद की 17 बार बैठक हुई ताकि नई कर व्यवस्था को अंतिम रूप दिया जा सके. पहले जीएसटी की शुरुआत विज्ञान भवन से होनी थी लेकिन नई कर संहिता की अहमियत को देखते हुए केंद्रीय हाल को बेहतर विकल्प माना गया. नई अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था एक दर्जन से अधिक शुल्कों को स्वयं में समाहित कर एकल बाजार तैयार करेगा जिसकी आबादी अमेरिका, यूरोप, ब्राजील, मैक्सिको तथा जापान को मिलाकर अधिक है. (न्यूज एजेंसी भाषा से इनपुट)