NDTV Khabar

नए साल का तोहफा : होम, ऑटो लोन 6 सालों में सबसे सस्ता! SBI समेत बैंकों ने घटाईं ब्याज दरें

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नए साल का तोहफा : होम, ऑटो लोन 6 सालों में सबसे सस्ता! SBI समेत बैंकों ने घटाईं ब्याज दरें

होम, ऑटो लोन 6 सालों में सबसे सस्ता! और गिर सकती हैं ब्याज दरें... (प्रतीकात्मक फोटो)

खास बातें

  1. तीन बैंकों ने ब्याज दर घटाईं हैं. SBI का MCLR 6 साल में सबसे कम
  2. मोदी ने बैंकों से की थी गरीब व निन्म मध्यवर्ग कर्ज लेने में मदद को कहा था
  3. विशेषज्ञों के मुताबिक, ब्याज दरें और गिर सकती हैं
नई दिल्ली:

पीएम मोदी की 31 दिसंबर को दी गई स्पीच के बाद बैंकों द्वारा लेंडिग रेट्स यानी कर्ज पर ब्याज दरें घटाने का फैसला वाहन और घर खरीदने वालों के लिए नए साल के तोहफे जैसा है. सबसे पहले देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक ने बेंचमार्क लेंडिंग रेट एमसीएलआर में 0.90% की कटौती की घोषणा की.  MCLR जो पहले 8.9% था वह अब एक साल के लिए 8% हो गया है. नई दरें 1 जनवरी 2017 से प्रभावी हैं. इस कटौती के बाद होम लोन, ऑटो लोन, पर्सनल लोन समेत सभी तरह के लोन सस्ते हो गए हैं. लोन के और सस्ते किए जाने के भी आसार हैं. इसी के साथ आपकी ईएमआई (EMI)  पर भी असर पड़ेगा.

एनडीटीवी से बातचीत में एसबीआई (नेशनल बैकिंग) के मैनेजिंग डायरेक्टर रजनीश कुमार ने कहा, एसबीआई के होम लोन, 30 लाख रुपए तक के, पर ब्याज दरें 8.5% की गई हैं. अगले छह महीने तक ब्याज दरों में इजाफा करने को लेकर कोई दबाव नहीं है. उन्होंने कहा कि विमुद्रीकरण के बाद 10 नवंबर से लोन (बुक) में ग्रोथ नहीं दिखी. बैंक का लक्ष्य है कि Q4 में लोन ग्रोथ लाई जाए. उन्होंने कहा कि एमसीएलआर में कटौती के चलते कर्ज की मांग में बढ़ोतरी पैदा करने की कोशिश की जा रही है. निकट भविष्य में इसके और कम किए जाने के आसार नहीं दिखते.

बैंकों से गरीबों और निम्न-मध्यम वर्ग को कर्ज लेने के मामले में सहायता देने को प्राथमिकता देने के पीएम नरेंद्र मोदी के अनुरोध के बाद बैंकों ने कर्ज की दरों में कटौती की है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बैंक होम और कार लोन की दरें तय करने के लिए एक साल का बेंचमार्क तय करते हैं. वे रीटेल लोन तय करने के लिए एमसीएलआर के ऊपर मार्जिन तय करते हैं जोकि सीधे सीधे लोन की ब्याज दरें निर्धारित करने से लिंक होता है. एसबीआई ने जो बेंचमार्क रेट तय किया है वह 2011 के बाद से सबसे कम है. एक नजर से देखें तो एसबीआई ने बेंचमार्क लेंडिग रेट में जो कटौती की है वह 2015 के बाद से कुल मिलाकर 200 बेसिस पॉइंट्स की है.


-- --- --- --- ---
यह भी पढ़ें- पीएम मोदी की 31 दिसंबर की स्पीच के प्रमुख अंश
-- --- --- --- ---

एसबीआई के बयान के मुताबिक, उसके एक साल की अवधि वाले कर्ज की सीमान्त कोष लागत आधारित कर्ज दर (MCLR)को घटाया गया है. इसी प्रकार एक माह, तीन माह और छह माह की अवधि के कर्जों के लिए भी ब्याज दरों में कटौती की गई है. बैंक ने दो साल और तीन साल की अवधि के लिए इसे घटाकर क्रमश: 8.10% और 8.15% कर दिया है. पिछले सप्ताह SBI के सहायक बैंक स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर ने दरों में कटौती की थी. वहीं IDBI बैंक ने भी इसमें 0.60% तक की कटौती की थी.

टिप्पणियां

पीएनबी और यूबीआई ने भी घटाईं दरें...
SBI के अलावा सरकारी क्षेत्र के दो अन्य बैंकों पंजाब नेशनल बैंक (PNB) और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया (UBI) ने भी 1 जनवरी को विभिन्न परिपक्वता अवधि के कर्ज की मानक दरों में 0.90% तक की कटौती की घोषणा की है. पीएनबी ने एक वर्ष की अवधि वाले कर्ज के लिए एमसीएलआर 0.70% घटाकर 8.45% कर दिया है. इसी प्रकार तीन वर्ष की अवधि के लिए यह 8.60% और पांच वर्ष की अवधि के लिए 8.75% किया गया है. यूबीआई ने एमसीएलआर में 0.65% से 0.90% कटौती करते हुए एक वर्ष की अवधि के लिए इसे 8.65% कर दिया है.

क्या कहना है जानकारों का...
विशेषज्ञों की राय है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) मुद्रास्फीति में गिरावट को देखते हुए जल्द ही रेट कट का ऐलान कर सकता है. यदि ऐसा कोई ऐलान होता है तो जाहिर सी बात है कि बैंक लोन पर ब्याज दरों में और ज्यादा कटौती दे सकते हैं. इस रेट की एक वजह यह भी होगी कि बैंकों के पास विमुद्रीकरण के चलते नकदी का कोई संकट हाल  फिलहाल नहीं देखा जा रहा है. बैंकों के रेट कट का आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने एक ट्वीट कर स्वागत किया.
 


वैसे आरबीआई ने अभी तक यह खुलासा नहीं किया है कि उसके पास नोटबंदी के बाद कितना डिपॉजिट आया है. पुराने 500 रुपए और 1000 रुपए के नोटों को बैंक में जमा करने की आखिरी तारीख 30 दिसंबर थी. आरबीआई ने पिछले दिनों बताया था कि 10 दिसंबर तक बैंकों के पास 12.5 लाख करोड़ का डिपॉजिट हुआ है.


NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement